Gold became 50 thousand, customers worried

अमरावती. शुक्रवार को सोने के दाम 50 हजार रुपए प्रति तोला चढ़ने के साथ ही अब तक के सबसे उंचे  शिखर पर पहुंच गए. पिली धातु के दाम  एतिहासिक रुप से बढ़ने से ग्राहकों की सांसे फुलने लगी है. जिन परिवारों में वैवाहिक आयोजन है. उनकी चिंता दूगनी हो गई है. एक ओर लाकडाउन की मार दूसरी ओर सोने के दाम बजट से बाहर होने से चिंता छायी है. हालांकि दाम और न बढ़ जाए इस बात से डरे लोग अब सराफे में पहुंचकर खरीदी में जुटे रहे. जिससे बाजारों की रौनक बढ़ी.

लॉकडाउन के बाद दोगना संकट
लॉकडाउन के चलते ठप हुई अर्थव्यवस्था के चलते सराफा बाजार पर पहले ही मंदी है. उस पर उंचे दामों ने व्यवसाय को मुसीबत ला दी है. बाजार में हलचल मचा दी है. 24 कैरेट सोने के दाम 3 प्रतिशत जीएसटी के साथ 49700-800 रहे. जबिक बगैर जीएसटी के दाम 28800 के करिब रहे.

जीएसटी के साथ दामों का अर्धशतक
जीएसटी के साथ सोने के दाम 49800 तक पहुंचे है. लेकिन इसके बाद भी सराफा बाजार में ग्रहाकों की भीड है. जबकि अंदेशा थी कि कहीं फिर मंदी न छा जाए लेकिन ग्राहकों की सकारात्मकता ने व्यवसाईयों को धीरज दिया है.-महेन्द्र भंसाली, सराफा व्यवसायी

इतनी बडी उछाल पहली बार
सोने के दाम एतिहासीक स्तर पर पहुंच गए है. इतनी उंची दामों की उछाल पहली बार देखी गई. लेकिन इसके बावजूद लोग सराफे में चहल पहल कर रहे है. सोने के दाम अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर तय होने से कम ज्यादा होते है. भवष्यि में दाम और बढ़ने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता.-अविनाश चुटके, सचिव, सराफा एसोसिएशन