Cooperative sector opposes new orders of the Center

नवभारत: इंस्टंट मनी की व्यवस्था करना है तो लोग मणप्पूरम फाइनांस कंपनी की ओर लोग दौड़ लगाते हैं, लेकिन अब वहीं सोना शादी ब्याह में पहनने के लिए छुड़ाना है तो नागरिकों के लिए सिरदर्द बनता जा रहा है. एक दो नहीं बल्कि कंपनी के 400 शाखाओं पर ताले ठोके गये हैं. जिसमें करोड़ों रुपयों का सोना अटका है. कर्मचारियों ने मणप्पूरम कामगार सेना की ओर से फाइनान्स कंपनी द्वारा की जा रही मनमानी के खिलाफ हड़ताल जारी की है. कंपनी व कर्मचारियों के हड़ताल में नागरिकों पर ब्याज पर ब्याज चढ़ता जा रहा है. 

इन मांगों का है समावेश 

मार्च माह से जारी लॉकडाउन के कारण लोग भी गिरवी रखे सोने का ब्याज चुका नहीं पाए. अनलॉक में भी बैंक के कुछ नियमों के कारण लोगों ने राहत देने की मांग की लेकिन फाइनान्स कंपनी ने किसी भी प्रकार राहत नहीं दी. वहीं दूसरी ओर कोरोना काल में अप्रैल माह से कर्मचारियों को वेतन नहीं दिया. वेतन मांगनेवालों के बाहरी राज्य में तबादले करना शुरू कर दिया. अनलाक में भी कानून तौर पर 5 प्रतिशत लोग उपस्थित रहने के आदेश होते हुए भी वेतन में कटौती करना शुरू किया. अधिकार की छुट्टियां भी बंद कर दी. इसलिए कर्मचारियों ने भी राज्य की 400 शाखाओं में हड़ताल शुरू कर दी है. 

टोल फ्री नंबर भी बंद 

मणप्पूरम के कामगार सेना की ओर से 18 नवंबर से जारी हड़ताल के कारण जैसे तैसे कोरोना काल में भी घरेलू पध्दती से शादी ब्याह के आयोजन को अनुमति प्राप्त हो चुकी है. जिसके कारण लोग सोना छुड़ाने तथा लिगल एक्शन न हो इसलिए मणप्पूरम के चक्कर कांट रहे है. लेकिन कई दिनों से बैंक के सामने हड़ताल की चिठ्ठी चस्पाई गई है और वह सूचना पढ़कर लोग वापस लौट रहे है. इस चिट्ठी पर लिखा टोल फ्री नंबर भी बंद आने से किसे शिकायत करें यह प्रश्न है. वहीं दूसरी ओर लोगों को मोबाईल पर कंपनी की ओर से ब्याज बढ़ने के मैसेज पर मैसेज किए जा रहे है. जिन्हें छुड़ाना है वह छुड़ा नहीं सकता और नहीं ब्याज भर पा रहे है. जिससे नागरिकों में घबराहट का वातावरण निर्माण कर रही है.

कहां करें शिकायत 

मणप्पूरम में सोना गिरवी रखा है, लेकिन अब घर में शादी होने के कारण यह सोना छुड़ाने के लिए पहुंचे तो 18 नवंबर से बैंक बंद दिखा रहे है. कई लोग वापस लौट रहे है और सोने पर ब्याज भी बढ़ता जा रहा है. क्या बैंक ब्याज माफ करेगी. किससे शिकायत करें- राधिका रोंघे, अमरावती