Indian-origin shopkeeper banned for tax crime

    चांदृर बाजार. कोरोना प्रकोप से संपूर्ण देश की अर्थव्यवस्था बेपटरी चुकी है. जिसका असर ग्राम पंचायत की संपत्ति टैक्स व पानी टैक्स वसूली पर भी हुआ है. तहसील के ग्रापं में कर वसूली अत्यल्प होने से बिजली बिल भुगतान की समस्या भी ग्रापं प्रशासन के समक्ष है. 

    काटे जा रहे कनेक्शन

    तहसील में 67 ग्राम पंचायत है. डेढ़ वर्ष कोरोना लॉकडाउन में बीत गया. इस वजह से टैक्स वसूली अत्यल्प है. जलापूर्ति के बिजली बील नहीं भरने वाली ग्रापं के बिजली कनेक्शन महावितरण कंपनी ने खंडीत करना शुरू किया है. जिसका असर सामान्य निधि से होनेवाले विकास कार्यों पर भी पडने की आशंका है. ग्राम पंचायत के लिए संपत्ति टैक्स वसूली महत्वपूर्ण होती है.

    इस वसूली से ग्राम पंचायत के कई बुनियादी सुविधाओं के साथ अनेक विकास काम निपटाएं जाते हैं. लेकिन 2 वर्ष से लॉकडाउन के कारण अधिकांश व्यवसाय बंद पड़े हैं. ग्रामीण क्षेत्रों में भी हाथों को काम नहीं है कई लोग नौकरी वापस जाने से वापस लौट आए है. ऐसे में ग्राम पंचायत की टैक्स वसूली पर असर हुआ है. कोरोना की एंट्री मार्च 2020 में हुई थी. तक से ग्रापं में अपेक्षित वसूली नहीं हो पाई है. जिससे ग्रापं को काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा है.

    अत्यल्प वसूली

    तहसील के ग्रामपंचायतों की कर वसूली अत्यल्प है. जिससे बिजली बील भुगतान भी मुश्किल है. बिजली कंपनी ने कुछ ग्रामपंचायत की बिजली आपूर्ति खंडित करना शुरू किया है.- ईश्वर सातंगे, पंचायत विस्तार अधिकारी

    सहयोग करें नागरिक

    तहसील के ग्रामपंचायतों की वसूली नहीं होने से काफी समस्या खडी हो गई है. तहसील के नागरिकों ने बकाया टैक्स अदा कर ग्रामपंचायतों को सहयोग करना चाहिए- डा.प्रफुल्ल भोरखडे, गुट विकास अधिकारी, चांदूर बाजार