bus

अमरावती. लगातार 4 माह से एसटी के पहिये थम जाने से महामंडल आर्थिक तंगी  झेल रहा था, लेकिन अब धीरे धीरे एसटी महामंडल की आय में बढोतरी हो रही है. पूर्ण क्षमता से दौडने के आदेश राज्य परिवहन ने जारी करते ही 22 यात्रियों की बजाए अब लालपरी हाउसफुल्ल होकर दौडने लगी है. रोजाना 10 हजार रुपये से लेकर अब रोजाना 10 लाख तक की आय बढ चुकी है.

सोमवार से चंद्रपुर फेरी आरंभ
लाकडाउन के पश्चात 20 अगस्त से एसटी सेवा शुरु की गई. लेकिन तब से प्रत्येक आसन पर एक निर्णय क्षमता से ही यात्री बिठाकर बसों को दौडाया जा रहा था. जिसके कारण महामंडल की बसे दौडाने के बाद भी महामंडल को आर्थिक तंगी का सामना करना पड रहा था. एक माह तक केवल महामंडल को पेट्रोल डिजेल के पैसों के साथ गांव गांव में एसटी बस सेवा शुरु हुई इतना ही मैसेज पहुंचाया गया. लेकिन अब 18 सितंबर को पूर्ण क्षमता से बसों को दौडाने के आदेश प्राप्त होते ही एसटी महामंडल भी क्षमता से बसों को दौडा रहा है. नई नई फेरियां भी आरंभ कर दी है. पुणा, औरंगाबाद के बाद अब दर्यापुर-चंद्रपुर फेरी भी सोमवार से शुरु करने का निर्णय महामंडल ने लिया है.

बढ रही डिपो पर भीड़
कोरोना मरिजों के आंकडों को देखते हुए भीड जमा नहीं करने तथा सोशल डिस्टसिंग का पालन करने के आदेश है. लेकिन एसटी डिपो पर आये दिन भीड बढ रही है. विशेष बात यह है कि सोशल डिस्टसिंग का कतई पालन नहीं किया जा रहा है. केवल बसों को सैनिटराइज कर प्रत्येक यात्री को मास्क के बगैर एन्ट्री नहीं दे रहे है. लेकिन बढ रही भीड पर काबू पाने महामंडल कुछ उपाययोजना करे ऐसी मांग नागरिकों व्दारा की जा रही है. अमरावती विभाग के 8 डिपो से रोजाना 450 फेरियां शुरु है. जबकि कोरोना के पूर्व 2200 फेरियां की जाती थी. लेकिन अब यात्री बढने से महामंडल की आर्थिक स्थिति सुधर रही है.

जांच होना जरुरी
कोरोना के आंकडे बढने से एसटी महामंडल की सेवा दुबारा बंद करें ऐसा नहीं लेकिन जिस तरह बैंक, शासकीय कार्यालयों में जांच व सैनिटराइज कर भेजा जाता है वैसे व्यवस्था करनी चाहिए. केवल मास्क लगाकर बैठने से कोरोना का संक्रमण दूर नहीं होगा. लोग भी बुखार, सर्दी, खांसी होने के बावजूद बताते नहीं इसलिए महामंडल ने डिपो में एन्ट्री करते समय ही इसकी जांच करवाना चाहिए तांकि संक्रमण फैलाने का दाग महामंडल पर न लगे.- शंकर कालमेघ, यात्री

अब पूर्ण क्षमता से बैठेंगे यात्री
कुछ बसों में 22 तो कुछ बसों में हाउसफुल्ल यात्री भरने की शिकायतें प्राप्त हुई थी, लेकिन वैसे आदेश ही प्राप्त हुए है इसलिए प्रत्येक बसों में क्षमता पूर्ण यात्री बिठाये जायेंगे. यात्रियों को मास्क का इस्तेमाल करना अनिवार्य है, जबकि बसों को सैनिटाइजर किया जा रहा है. 450 से अधिक फेरियां बढाने का निर्णय लिया जायेगा, किंतु बढते आंकडों के कारण विचार किया जा रहा है.- श्रीकांत गभणे, विभागीय नियंत्रक