stork birds

परतवाड़ा. मेलघाट में 263 से ज्यादा विभिन्न प्रजातियों के पक्षियों की पहचान की जा चुकी है. यहां 96 के करीब मछलियों की पहचान हो चुकी है. पशुओं में 19 किस्म की पशु यहां पाये गये है.यहां के पक्षियों में पानबुड़ी, पानकौआ, छोटा पिसारी बगला, गाय बगला, भूरा बगला, रंगीन करकोचा, करकोचा, कांडेसर काला अवाक, चक्रवाक, छोटा मराल, सररुची, प्लावा, बदख, लाल सरवाला बदख, कापसी, शिक्रा, तुरेवाला सर्प गरूड़ प्रमुख रुप से शामिल हैं. 

96 प्रजाति की मछलियां एवं 9 तरह के रेंगने वाले प्राणी

लंबी चोचवाला गिध, शुभ्रपाटीवाला गिध, काली छातीवाला दुर्लाव, रंगीन तितर, राखी तितर, राखी जंगली मुर्गा, मोर, पानमुर्गी, जामुनी पानमुर्गी, चांदी, शेकरया, कुरला चिलका, टिटवी, , जंगली कबूतर, गौरा होला, लालहौला, कवड़ा, होलाभोरी, कीर, कंठा, टुईया, कोयल, भाद्वाज, गवानीउल्लू, श्रृंगी उल्लू, शिंगला, पट्टेरी उल्लू, पिंगला, जंगली पिंगला, कवईया, हुदहुद, राखी धनेश, कवडा धनेश, तांबट, मराठा सुतार, हुदहुद, किलकिला, पागल राघू, नीलकंठ, कालीपोट सुतार, सोनपाठी सुतार, नवरंग, किनगीवाला चंडोल,लालबुड़ी भिंगरी, तारशेपटी खाटीक, हलवा, बुरखीहलवा, कोतवाल, भृंगराज, शुभ्रपेट कोतवाल, ब्राम्हणीमैना, सालुंकी, कवडीमैना, टकाचोर, शुभग, लालबुड़वा बुलबुल, लालगाली बुलबुल, रानसातभाई, मशीमार, स्वर्गीय नर्तक, शुभ्र नेत्र नर्तक, राखी वटवट्या, शिंपी, दयाल, चिरक, राखी, बलगुली आदि प्रमुख है.

90 प्रजाति के पेड़, 66 प्रजाति के पौधे

उसी तरह बाघ, जंगली कुत्ते, सांबर, चीतल, भौंकने वाले हिरण, नीलगाय, चौसिंगा, गवा,जंगली सुअर, लंगूर, उड़ने वाली गिलहरी आदि रैंगने वाले पशुओं में कोब्रा, पॉयथान, चूहा सांप, मगरमच्छ आदि है. मेलघाट में 90 प्रजाति के पेड़, 66 प्रजाति के पौधे, 316 प्रजाति के हर्ब पायी जाती है.