बर्ड फ्लू के कारण मटन पर मार रहे ताव, वरुड़ के 41 ग्रापं में अब गृहभेंट पर जोर

वरुड. तहसील की 41 ग्राम पंचायतों में चुनावी प्रचार तोपें बुधवार की शाम 5 बजे थम गईं. 139 प्रभागों से 379 सदस्यों के लिए 15 जनवरी को मतदान होना है. कुल 14 सीटों पर निर्विरोध चुनाव निपटे है. बाहरगांव के वोटरों की खोज उम्मीदवार व उनके समर्थक युद्धस्तर पर कर रहे है. ऐसे में ढाबे व होटलों के अलावा खेतों में पार्टियों का दौर जमकर शुरू हो गया हैं. लेकिन बर्ड फ्लू के संदेह के कारण कार्यकर्ता चिकन व अंडों की बजाय मटन पर ताव मारते देखे जा रहे है. कुछेक जगहों पर शाकाहार पर ही दिल मसोसकर सावधानी बरत रहे है.   

155 मतदान केंद्रों पर कड़े प्रबंध  

गुटबाजी की राजनीति में वोट मिलने के लिए रस्साकसी शुरू है. महाविकास आघाड़ी में एनसीपी, शिवसेना, स्वाभिमानी शेतकरी संगठन एकजुट नजर आ रही है. जबकि कांग्रेस का अलग पैनल नजर आ रहा है. भाजपा भी स्वतंत्र चुनाव लड़ रही है. पार्टी के बड़े नेता घरों से ही राजनीतिक गतिविधियां चला रहे है. युवा कार्यकर्ता जमकर जुटे हैं. बताया जाता है कि शराब दूकानें बंद रखे जाने के पहले ही पूरा बंदोबस्त कर लिया गया है. ताकि वोट पक्के कराए जा सके.

कोरोना के मद्देनजर 527 लोगों के एंटीजन टेस्ट कराए गए. 65 लोगों का आरटीपीसीआर कराया गया. जिसमें 6 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए. मतदान केंद्रों पर बिना मास्क प्रवेश नहीं दिया जाएंगा. वरुड़ तहसील में 155 मतदान केंद्र है. 11 सहायक निर्णय अधिकारी, 155 केंद्राधिकारी, 465 मतदान अधिकारी की नियुक्ति की गई है.