28 से नया शिक्षा सत्र, आनलाईन-आफलाईन पर सस्पेंस कायम

    अमरावती. अगले सोमवार 28 जून से नए शैक्षणिक सत्र 2021-22 शुरू करने की अधिकारिक घोषणा शिक्षा विभाग ने रविवार को कर दी. प्राथमिक शिक्षाधिकारी ईजेड खान तथा मनपा शिक्षाधिकारी डा. अब्दुल राजिक ने अगले हफ्ते से से शुरू किए जा रहे नए शैक्षणिक सत्र पर जानकारी देते हुए बताया कि शिक्षा विभाग के आदेशानुसार 28 जून से शैक्षणिक सत्र 2021-22 शुरू किया जा रहा है. जिसके तहत अभी कक्षा 10 वीं, 11 वीं तथा 12 वीं के शिक्षकों को शत प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य की गई है.

    इसी तरह पहली से 9 वीं के शिक्षकों को 50 प्रतिशत उपस्थिती के निर्देश जारी किए गए है. नए शैक्षणिक सत्र की शुरूआत तो की गई है, लेकिन स्कूलों को आफलाईन शुरू किया जाए या आनलाईन क्लासेस के माध्यम से ही पढाना है, यह कोरोना संक्रमण स्थिति व शासन के संशोधित निर्देशों पर निर्भर है. जिससे लगातार दूसरे वर्ष भी स्कूलों के आफलाईन खुलने पर का सस्पेंस कायम है.

    शहर में 257 स्कूलें, मनपा की 63

    अमरावती शहर में कुल 257 निजी तथा सरकारी स्कूलें है. इन स्कूलों में पढने वाले छात्रों की संख्या ढाई से 3 लाख है. शहर में मनपा अंतर्गत कुल 63 स्कूलें है. जिनमें 8 हजार 500 से अधिक छात्र है. इस वर्ष भी स्कूलों के आफलाईन रूप से खुलने के लिए कोरोना संक्रमण कम होने की प्रतीक्षा की जा रही है. लेकिन तब तक शिक्षा का काम भी शुरू रहे इसलिए नए शैक्षणिक सत्र की शुरूआत कर दी गई है.

    अब विभिन्न स्कूलों को स्थिती नुसार अलग-दिशा निर्देश जारी किए जा रहे है. सोमवार 28 जून से नया शैक्षणिक सत्र शुरू किया जा रहा है. शासन यदि स्कूलों को आफलाईन खोलने की अनुमति प्रदान करता है, तो पालकों ने भी बच्चों को स्कूल भेजना चाहिए. – डा. अब्दूल राजिक, शिक्षणाधिकारी मनपा. 

    वैन चालक, मालकों का सब्र दे रहा जवाब 

    लगातार दूसरे वर्ष स्कूलों के खुलने को लेकर सस्पेंस कायम रहने से स्कूल वैन मालक चालकों का सब्र भी जवाब दे रहा है. इस वर्ष भी स्कूलें आनलाईन ही चली तो फिर आत्महत्या करने अलावा दूसरा विकल्प नहीं बचेगा, ऐसा वैन चालक मालकों का कहना है. वैन की बकाया किश्तें, परिवार का पालन कैसे करे यह समस्या कायम रहने के बाद भी सरकार ने स्कूल वैन चालकों को सानुग्रह मदद तक नहीं की है.

    जिससे वैन चालकों के परिवारों पर भुखमरी की नौबत आई है. ऐसे शब्दों में अपनी पिड़ा का बखान वैन चालक संगठन के अतुल खोंड ने किया. स्कूलों को पूर्वरत खोले जाने की मांग भी वैन चालक संगठन द्वारा की जा रही है.