Demand to reduce school fees

  • और 15 स्कूलों पर होगी कार्रवाई
  • राज्यमंत्री बच्चू कडू की राज्य में पहली कार्रवाई

अमरावती. महाराष्ट्र में शालेय शिक्षा के लिए अभिभावकों से अधिक फीस वसूल करने वाली स्कूलों को कतई बख्शा नहीं जाएगा. हिंगणघाट व वर्धा के बाद अब राज्य की 15 और ऐसी स्कूलों की सूची तैयार की गई है. जिन पर कार्रवाई की जाएगी. इन स्कूलों को भी छात्रों के अभिभावकों से ली गई अधिक फीस की राशि वापस लौटानी होगी. राज्यमंत्री बच्चू कडू की राज्य ही नहीं बल्कि संपूर्ण देश में अपने तरह की इस पहली कार्रवाई से अत्याधिक फीस वसूलने वाली स्कूलों के व्यवस्थापन में हड़कंप देखा जा रहा है. 

जीविएम विद्या मंदिर को लौटाने होंगे 4.46 करोड़

अभिभावकों से अधिक फीस वसूल करने वाली स्कूलों पर कार्रवाई की गाज गिर रही है. हिंगणघाट व वर्धा की स्कूलों को पालकों को 4 करोड़ 46 लाख रुपए वापस लौटाने के आदेश दिए जाने के बाद राज्य के शिक्षा क्षेत्र में हड़कंप मच गया है. इस तरह की कार्रवाई राज्य ही नहीं पूरे देश में पहली बार की गई है. अब जल्द ही राज्य की 15 और शालाओं पर कार्रवाई होना तय है. हिंगणघाट की गिरीधारीलाल मोहता विद्या मंदिर की वर्धा शाखा द्वारा वर्ष 2014-15 से 2018-19 में अभिभावकों से अधिक फीस के रूप में लिए गए 4 करोड़ 46 लाख 42 हजार 206 रुपए संबधित छात्रों के पालकों को लौटाने के आदेश भेजे गए हैं. 

1 माह के भीतर लौटानी होगी राशि

शाला व्यवस्थापन के साथ ही मुख्याध्यापक को भी यह आदेश की कापी भेजी गई है. 1 माह के भीतर पूरी राशि लौटाने के निर्देश दिए गए है. अब ऐसी ही कार्रवाई राज्य की अन्य 15 स्कूलों पर होगी.  शिक्षा क्षेत्र में बढ़ते व्यवसायिकरण को नियंत्रित करने की दिशा में राज्यमंत्री बच्चू कडू की इस कार्रवाई की सराहना की जा रही है. लेकिन इस सूची में किन-किन शालाओं का नाम है. यह उजागर न होने से अधिकांश शाला संचालक व व्यवस्थापन अपने अपने बहिखाते व कम्प्युटर मेन्टेन करने में  लगे हैं. 

अभिभावकों की लूट बर्दाश्त नहीं

अभिभावकों की लूट सरकार कतई बर्दाश्त नहीं करेगी. वर्धा के बाद अब राज्य की 15 शालाओं की सूची तैयार की गई है. जिन्हें अधिक फीस वसूलने के मामले में कार्रवाई करते हुए अभिभावकों को राशि लौटाने के आदेश दिए जाएगे. – बच्चू कडू, शालेय राज्यमंत्री