Local people ignore Covid-19 guidelines in Varanasi vegetable market

    अमरावती. लाकडाउन में ढील के तहत मंगलवार को सुबह पूरे 56 दिनों बाद गैर जीवनावश्यक दूकानों के शटर खुले. जिससे कोरोना लाकडाउन में कराह रहे व्यापार-कारोबार को आक्सीजन मिला है. लेकिन पहले ही दिन बाजार में जबरदस्त भीड़ ने फिर एक बार टेंशन बढ़ा दिया है.

    एक माह के कड़े लाकडाउन के चलते जैसे-तैसे कोरोना संक्रमण में गिरावट आई है. जिसके कारण राज्य में 15 जून तक लाकडाउन के बीच अमरावती जिला को पाजिटिविटी रेट के आधार पर छूट मिली है, लेकिन इसी तरह बाजार में भीड़ रही और फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो सका तो संक्रमण बढ़ने का खतरा है.

    कृषि केंद्रों पर रिकार्ड भीड़

    हालांकि शहर समेत जिला में सभी कृषि सेवा केंद्र व कृषि उत्पादन के प्रतिष्ठान सुबह 7 से दोपहर 3 बजे तक सप्ताह भर नियमित शुरू रहने वाले है, लेकिन फिर भी पहले ही दिन अमरवाती, बडनेरा, तिवसा, चांदूर रेलवे, धामणगांव रेलवे, दर्यापुर, भातकुली समेत सबी 14 तहसीलों व ग्रामीण भागों में कृषि केंद्रों पर किसानों की भीड़ दर्ज की गई. जिला कृषि अधीक्षक चव्हाले के अनुसार जिला में सभी कृषि सेवा केंद्र नियमित शुरू रहेंगे. इसीलिए किसानों को बीज-खाद खरीदने के लिए बीड़ करने की आवश्यकता नहीं है. 

    दो बजे के बाद भी रही शुरू

    जिला प्रशासन से दूकानें शुरू रखने 2 बजे तक का ही समय तय किया है. लेकिन पहले दिन उमड़ी भीड़ के कारण दोपहर 2 बजे के बाद भी दूकानें बंद नहीं हुई. ग्राहकों को निपटाते- निपटाते ढाई-पौने तीन बजे तक बाजार शुरू रहा. पुलिस पेट्रोलिंग के बाद दूकानें बंद होना शुरू हुई.