Now the crisis on crops from Toldhakali - Agriculture Department advised to be cautious

अमरावती. भरी ठंड के मौसम मे अचानक छाए बादल फसलों के लिए आफत साबित हो सकते है. यदि यह बदरिला वातावरण और कुछ दिनों तक जारी रहा तो फसलों पर निश्चित ही इल्लियों के प्रकोप की संभावना है. इस वजह से कृषि विभाग ने भी किसानों को सतर्क रहने का आह्वान किया है. हालांकि जिले में अब तक कहीं से शिकायत प्राप्त नहीं है. लेकिन आनेवाले दिनों में मौसम साफ नहीं हुआ तो फसलों का खतरा हो सकता है.  

किसानों पर आफत के बादल

पूरे वर्ष कोरोना, अतिवृष्टि समेत विभिन्न संकटों को झेल रहे किसानों पर फिर आफत के बादल छा गए है. अतिवृष्टि के कारण खरीफ की फसल हाथ से जाने के बाद किसानों को रबी से उम्मीद थी. दिसंबर माह के शुरूआती सप्ताह में ठंड पडने से फसलों को पोषक वातावरण बन गया था, लेकिन विगत दो तीन दिनों से पूरे जिले में बदरीले मौसम के कारण ठंड भी कम हो गई है और इस बदलते मौसम में इल्लियों के प्रादुर्भाव का खतरा है. ऐसे में किसान फिर आर्थिक संकट में फंस सकता है.  

निंबोली अर्क का उपयोग करें

मौसम में अचानक आए बदलाव के दौर में किसानों ने अधिक सतर्क होना चाहिए. रोजाना फसलों का बारीकी से निरीक्षण करना चाहिए. यदि इल्लियों के प्रकोप का अंदेशा हो तो निंबोली अर्क का छिड़काव करे या कृषि विशेषज्ञ की सलाह से सिफारीश किए दवाईयों का छिड़काव करे.- विजय चवाले, जिला कृषि अधीक्षक