दम तोड रही पोस्ट की फ्रेंचायजी योजना जिले में केवल 3 आऊटलेट

– शंकर जयस्वाल

अमरावती. डाक सेवाओं के विस्तार के लिए पोस्ट विभाग ने फ्रेंचायजी देने की योजना शुरु की है. जिन इलाकों या गांवों में डाक घर नहीं है, ऐसे क्षमतावाले क्षत्रों के लिए यह योजना शुरु की गई है. इस योजना को शुरु किए एक वर्ष से अधिक समय बीत गया है, लेकिन जिले में केवल 3 स्थानों पर फ्रेंजायजी दी गई है. वरुड तहसील के जरुड गांव के साथ अचलपुर और परतावाडा में यह आऊटलेट है. इन्हे भी कुछ खास प्रतिसाद नहीं होने की जानकारी कैम्प स्थित प्रवर डाक घर से प्राप्त हुई है.

केवल 5 हजार डिपॉजिट

18 वर्ष का कोई भी व्यक्ति केवल 5 हजार डिपॉजिट रख यह फ्रेंचायजी प्राप्त कर सकता है. इसके लिए शैक्षणिक पात्रता दसवीं कक्षा कर दी गई है, जो कि पहले केवल 8वीं कक्षा थी. फ्रेंचाइजी के लिए आवेदकों को एक निर्धारित प्रारूप में आवेदन जमा करना होता है. चयनित फ्रेंचाइजी विभाग के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे. चयन के लिए मापदंड निर्धारित किए गए है, जिसमें समुदाय की जरूरतों और सार्वजनिक पहलुओं की समझ के साथ उत्पादों की एक श्रृंखला का प्रबंधन और विपणन करने की क्षमतावाले व्यक्तियों का चयन किया जाता है.

कमिशन से आय

डाक विभाग के टिकटों और स्टेशनरी बिक्री तथा अन्य सेवाओं का कमिशन ही फ्रेंचायजीधारक की आय है. जिसमें रजिस्टर्ड पोस्ट, स्पीड पोस्ट, मनी ऑर्डर बुक करना, पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस (पीएलआई) के लिए एक एजेंट के रूप में कार्य करना और बिक्री सेवा के बाद प्रीमियम के संग्रह सहित संबंधित को प्रदान करना, डिपार्टमेंट की बिल, टैक्स, फाइन कलेक्शन, पेमेंट सर्विसेस जैसी रिटेल सेवाएं, ई-गवर्नेंस और नागरिक केंद्रित सेवाओं के प्रावधान की सुविधा आदि सेवाओं का समावेश है.