नो एन्ट्री अधिसूचना को स्थगित करें, संजय खोड़के से महानगर चेम्बर ने लगाई गुहार

अमरावती. पुलिस आयुक्तालय ने शहर में नो एन्ट्री के नियमों में बदलाव करने की अधिसूचना जारी की. नागरिकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जारी अधिसूचना का स्वागत किया जाता है, लेकिन इस अधिसूचना में भारी वाहनों को शहर में रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक ही अनुमति दी गयी है. अमरावती जिले का पूरा व्यापार तथा ट्रान्सपोर्ट व्यवसाय भी सही तरीके से चलता रहे और शहर के नागरिकों को यातायात में तकलीफों का सामना नहीं करना पड़े, इसके लिये इस अधिसूचना को त्यौहारों को ध्यान में रखते हुए स्थगित करने की मांग महानगर चेम्बर ने की है. इस संदर्भ में रविवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस के प्रदेश महासचिव संजय खोड़के को निवेदन देकर गुहार लगाई. 

रात के समय हो बढ़ेगी असुविधा  

ट्रान्सपोर्टर द्वारा देश के दूर-दराज शहरों से जीवनापयोगी वस्तुओं का परिवहन होता है. अमरावती शहर में प्रतिदिन 25 से 30 ट्रक देश के विभिन्न शहरों से अमरावती आते है. जिसमें कृषि उपयोगी, अनाज, दवा, खाद्य पदार्थ, सीमेंट, इलेक्ट्रीकल्स, कपडा, बर्तन, पुस्तकें तथा अन्य अनेक वस्तुओं का समावेश है. इन वाहनों में अति मूल्यवान, जीवनापयोगी वस्तुएं, औषधियां होती है. जिन्हें देर रात उतारकर रखना सुरक्षित नहीं हो पाता. उसी प्रकार रात को 9 बजे के बाद ट्रक आने पर उसे खाली करने के लिये लेबर भी नहीं आते. उसी प्रकार रात में ट्रक खाली करने पर आस-पड़ोस के नागरिकों को तकलीफ हो सकती है. 

माल खराब होने की संभावना 

वास्तव में अधिसूचना का समय शहर के व्यवसाय और ट्रान्सपोर्टर के लिये असंभव होगा. दवाईयां और खाद्य पदार्थ तथा अन्य सभी वस्तुओं की डिलवरी देने में इस नियम के कारण 1 से 2 दिन की देरी होगी. जिससे व्यापार भी प्रभावित होगा और मार्केट में डिलवरी में विलंब के कारण वस्तुओं का शॉर्टेज भी होगा. पहले ही 3 माह के लॉकडाउन से पूर्ण व्यवसाय की कमर टूट चुकी है. कोरोना के दशहत से व्यवसाय आधा हो चुका है. अक्टूबर और नवंबर में दीपावली, नवरात्रि, दशहरा जैसे बड़े त्यौहार भी है. इसलिए फिलहाल नो एंट्री के नियमों को स्थगित रखने की मांग की. ज्ञापन सौंपते समय अध्यक्ष सुरेश जैन,सचिव घनश्याम राठी, जयंत कामदार, बकुल कक्कड़, सुदीप जैन, मगन बांठिया, ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष पंकज शाह, यूसुफ,केतन शाह,साजिद, जमील उपस्थित थे.