murder
file photo

    अमरावती. रोहन वानखड़े हत्याकांड में गिरफ्तार 5 आरोपियों को बडनेरा पुलिस ने 4 जुन तक पुलिस कस्टड़ी में लिया है. इन आरोपियों ने उधारी के पैसे व प्लाट नाम पर करने रोहन वानखड़े व्दारा डाले जा रहे दबाव में आकर निर्मम हत्या को अंजाम देने की कबूली दी है. गिरफ्तार आरोपी आकाश दिलीप मोरे (26, राजापेठ), करण कैलाश इटोरिया (21, राजापेठ), प्रशांत उर्फ सोनु लक्ष्मण चावरे(21, बेलपुरा), रोहित अमोल मांडले(20, राजापेठ) तथा नितेश नारायण पिवाल (26, कल्याण नगर) है. सभी आरोपियों को वर्धा जिले के हिंगणघाट से गिरफ्तार किया है.

    सुनियोजित तरीके से की हत्या

    पुलिस सूत्रों के अनुसार आकाश मोरे व नितेश पिवाल ने कई बार रोहन वानखड़े की पैसे देकर मदद की थी. जमानत का खर्च भी उन्हीं के पैसों से हुआ था. जिसकी उधारी रोहन वानखड़े पर होने की जानकारी पुलिस सूत्रों ने दी है. आकाश मोरे के खिलाफ गोदिंया में गांजा की कार्रवाई होने से वह दो वर्षों से जेल में कैद था.

    हालहि में जेल से छु़टने के बाद उसने एक प्लाट खरीदा था. भाईगिरी व दादागिरी प्रवृत्ति के दोनों होने से रोहन उस पर प्लाट अपने नाम करने दबाव बना रहा था. जिसको लेकर उनके बीच शाब्दीक विवाद भी हुआ था. उधारी के पैसे ना मिलने व प्लाट अपने नाम करने की धमकी के कारण आकाश मोरे ने उसकी हत्या की योजना बनाई. 

    पार्टी के बहाने घर से ले गए

    आकाश मोरे ने शनिवार को नया बाइपास रोड पर पार्टी की व्यवस्था की. आकाश व नितेश घर में बैठे रोहन को पार्टी के बहाने अपने साथ ले गये. यहां आरोपियों ने जमकर शराब के सेवन के साथ भोजन किया. शराब के नशे में धूत होते ही रोहन पर तीक्ष्ण हथियारों से हमला कर दिया. रोहन का दम निकलने तक उसके सीने में चाकु से वार करते रहे. इतना नहीं नहीं तो 50 से अधिक वारकर उसके शरीर को छनी कर दिया.

    अपने इस कृत्य को छीपाने के लिए आरोपियों ने पेट्रोल डालकर रोहन के शरीर को जलाने का प्रयास किया. नया बाइपास रोड पर वाहनों की आवाजाही होने से पकड़े जाने के डर से आरोपी सीधे वर्धा जिले की ओर भाग निकले. मृतक रोहन वानखडे की शिनाख्त होने के बाद पुलिस ने उसके परिजनों से पूछताछ की. जिसमें पता चला कि शनिवार की रात आकाश व नितेश उसे पार्टी के बहाने घर से ले गए थे, लेकिन रोहन बाद में घर नहीं आया. 

    वर्धा में मिले लोकेशन

    इस अहम जानकारी के आधार पर पुलिस ने आरोपियों के मोबाइल लोकेशन लेकर उनके छिपे रहने की जगह का पता लगाया. जिन्हें देर रात वर्धा जिले के हिंगणघाट से हिरासत में लिया. इन आरोपियों को सोमवार की दोपहर कड़े पुलिस बंदोबस्त में कोर्ट में पेश किया. यहां गाडगे नगर व फ्रेजरपुरा पुलिस का अतिरिक्त बंदोबस्त तैनात किया. हत्याकांड से संबंधित पूछताछ व हथियार जब्त करने आरोपियों की कोर्ट से कस्टड़ी मांगी. कोर्ट ने 5 आरोपियों को 4 जुन तक पुलिस कस्टड़ी में लेने के आदेश दिये.