राईटस् की देखरेख में रन-वे, टेकआफ के लिए मिशन मोड पर जुटे

    अमरावती. एटीआर-72 विमान की बेलोरा एयरपोर्ट पर उतरने की सुविधा व नाईट लैंडिंग की व्यवस्था के लिए एमएडीसी द्वारा ‘राईटस् लि.’ कंपनी का चयन किया गया है. ‘राईटस् लि.’ कंपनी यह केंद्र सरकार का उपक्रम है. यह कंपनी आर्किटेक्ट सलाहकार व प्रकल्प व्यवस्थापन सलाहकार के तौर पर काम देखेंगी. इस प्रकल्प को केंद्र सरकार का संरक्षण और वन व पर्यावरण मंत्रालय से परमिशन मिली है. रन-वे की लंबाई 1372 मीटर से 1850 मीटर तक बढ़ाई जा रही है. यह कार्य प्रगति पथ पर है.  

    टर्मिनल के लिए टेंडर 

    महाराष्ट्र जीवन प्राधिकरण के माध्यम से एयरपोर्ट को जलापूर्ति उपलब्ध करने का काम पूर्ण किया गया है. महावितरण के माध्यम से हाईवोल्टेज बिजली लाईन स्थनांतरित करने का निपट चुका है. बडनेरा-यवतमाल टर्निंग रोड का निर्माण कार्य भी पूरा हो गया है. एयरपोर्ट के चारों ओर कंपाऊंड वाल का काम प्रगति पर है.  एयरपोर्ट के लिए अत्याधुनिक नई टर्मिनल इमारत निर्माण करने के लिए निविदा प्रक्रिया शुरू है. पालकमंत्री यशोमति ठाकुर ने मंगलवार को बेलोरा एयरपोर्ट विस्तारिकरण के कार्यों का सूक्ष्म निरीक्षण कर एयरपोर्ट एथारिटी के अधिकारियों से चर्चा की. 

    मुंबई-अमरावती विमानसेवा के लिए मार्ग उपलब्ध 

    केंद्र सरकार की उड़ान योजना अंतर्गत संभागीय मुख्यालय नगरी के इस एयरपोर्ट का विस्तारीकरण गतिमान हुआ है. उड़ान 3.0 में रिजनल कनेक्टिविटी स्कीम में अमरावती-मुंबई विमानसेवा शुरू करने का मार्ग अलायन्स एयर लाइन्स को उपलब्ध करा दिया गया है. लेकिन विमानसेवा शुरू होने के लिए मिशन मोड पर काम निपटाना आवश्यक है. जिससे एमएजीसी प्रशासन ने समय-समय पर फालोअप कर काम को गति दे.

    संशोधित प्रशासकीय मान्यता के अनुसार आवश्यक निधि के लिए मंत्रालय स्तर पर फालोअप लेकर स्वतंत्र बैठक जल्द लेने का वादा पालकमंत्री ने किया. इस समय पूर्व विधायक वीरेंद्र जगताप, जिलाधिकारी शैलेश नवाल, महाराष्ट्र विमानतल विकास प्राधिकरण (एमएडीसी) के मुख्य अभियंता एसके चटर्जी, रामेश्वर कुरजेकर और ‘राईटस् लि.’ कंपनी के अधिकारी उपस्थित थे.