इमाम व मौजजिनों को दे वेतन, सुन्नी युथ फोरम की सीएम से मांग

अमरावती. 22 मार्च 2020 से पूरे देश में कोरोना महामारी के कारण सभी धार्मिक स्थल सरकार द्वारा बंद किए गए है, जिसमें मस्जिद, दरगाह भी बंद किए हैं, जिसके कारण मस्जिदों के इमामों और मोज़ज़िनों पर आर्थिक संकट आया हुआ है, क्योंकि लोग मस्जिद में नहीं आ रहे हैं, जिसकी वजह से जुम्मे का चंदा भी पूरी तरीके से बंद हो चुका है, इसीलिए महाराष्ट्र वक्फ बोर्ड के माध्यम से प्रतिमाह इमाम को 15 हजार और मोअज़ज़िन को 10,000 रुपए वेतन देने की मांग करते सुन्नी युथ फोरम ने जिलाधिकारी के माध्यम से सीएम उद्धव ठाकरे को ज्ञापन भेजा है.

अन्य राज्यों की तर्ज पर दे सहायता

 उन्होंने निवेदन में बताया कि जिस प्रकार भारत के दूसरे राज्यों में वक्फ बोर्ड के माध्यम से इमामों और मौज़्ज़नों को वेतन दिया जा रहा है, उसी तरह महाराष्ट्र वक्फ बोर्ड की निधि से सभी मस्ज़िदों के इमाम और मौज़ज़िनों को वेतन देकर सहायता प्रदान करे. इस समय मो.शुमाईल, सैय्यद समीर, शहबाज अली, रहीम राही, मजहर खान, अन्सार खान, आसिफ उर रहमान, सै.ओवेस समेत अन्य का समावेश है.