जनता कर्फ्यू से पसरा रहा सन्नाटा, पेट्रोल पंपों पर भी इक्का-दुक्का पहुंचे

    अमरावती. रविवार के लाकडाउन कर्फ्यू ने मार्च-अप्रैल-2020 में लगे जनता कर्फ्यू की यादें ताजा कर दी. सुबह से शहर में मुख्य मार्गों समेत गली-नुक्कड़ के रास्तों पर भी दिनभर सन्नाटा पसरा रहा. कोरोना के बढ़ते संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए लागू कर्फ्यू को नागरिकों का जबरदस्त प्रतिसाद मिला. सुबह दो घंटे के लिए दूध डेयरी खुली रही. जबकि अत्यावश्यक सेवाओं में मेडिकल व हास्पिटल शुरू रहे. पेट्रोल पंप शुरू रहने के बीच केवल इक्का-दुक्का गाडियां ही तेल लेने पहुंची. इस तरह शहर में लाकडाउन शत-प्रतिशत सफल रहा.

    पालकमंत्री ने किया निरीक्षण दौरा

    इस बीच पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर ने दोपहर 2 बजे लाकडाउन कर्फ्यू का जायजा लेने के लिए पूरे शहर का दौरा किया. इस दौरान पंचवटी, राजकमल चौक व इतवारा परिसर में सड़क पर उतरकर नागरिकों से संवाद साधते उन्हें त्रिसूत्री नियमों का कड़ाई से पालन करने का आह्वान किया. प्रत्येक पाइंट पर पहुंचकर उन्होंने पुलिस कर्मियों का हौसला बढ़ाया.  

    फिजूल घुमने वालों पर कार्रवाई

    सीपी डा. आरती सिंह के नेतृत्व में शहर में नाकाबंदी के अलावा चप्पे-चप्पे पर पुलिस का तगड़ा बंदोबस्त लगाया गया. शनिवार रात 8 बजे से जारी कर्फ्यू को सफल बनाने नागरिकों ने भी अच्छा प्रतिसाद दिया. संडे होने से पहले ही अधिकांश मार्केट बंद रहते है, लेकिन लाकडाउन के कारण प्रमुख मार्केटों में सन्नाटा रहा. 24 घंटे व्यस्त रहने वाले प्रमुख मार्ग भी वीरान रहे. इस दौरान फिजूल घुमने वालों के खिलाफ शहर के सभी 10 थाना अंतर्गत कार्रावई की गई. 

    बडनेरा में 39 लोगों पर कार्रवाई 

    रविवार की सुबह लॉकडाउन लगने के पश्चात पुलिस कर्मचारी रोड पर सख्ती से नागरिकों पर कार्रवाई करते नजर आए. लॉकडाउन लगा रहने के बावजूद भी ग्रामीण क्षेत्रों से काफी संख्या में नागरिक अमरावती शहर में प्रवेश करने के लिए उतारू थे. बडनेरा के अकोला व यवतमाल टी पॉइंट पर पुलिस ने बिना काम के घूमने वालों पर कार्रवाई की. इस कार्रवाई में 39 लोगों से 9600 रुपए जुर्माना राशि वसूल की गई. बढ़ता करोना संक्रमण एक गंभीर चिंता का विषय बनता जा रहा है, लेकिन जनता है कि इस बात को मानने को तैयार नहीं है.