स्काई वाक : 2 माह के भीतर दस्तावेज पूर्ण करें-राणा

    • केंद्र की गाइड लाइन पर राज्य ने नहीं भेजा प्रस्ताव 

    अमरावती. सांसद नवनीत राणा के अनुसार केंद्र सरकार के वन्यजीव विभाग, पर्यावरण विभाग व वन्य विभाग की गाइड लाइन के अनुसार राज्य सरकार ने स्काई वॉक का प्रस्ताव तैयार नहीं किया. जिसके कारण यह काम कई माह से प्रलंबित पड़ा है. अब राज्य सरकार व सिडको के अधिकारियों ने केंद्र की गाइड लाइन के अनुसार दुबारा संबंधित दस्तावेज प्रस्तुत कर 2 माह के भीतर इसकी रूकावटें दूर करें. यह निर्देश सांसद राणा ने दिए. मंगलवार को नागपुर में उच्चस्तरीय बैठक में उन्होंने आह्वान किया कि चिखलदरा समेत मेलघाट विकास के लिए राजनीति से ऊपर उठकर काम 

    बैठक में दिक्कतों व खामियों पर चर्चा

    नागपुर के सिडको अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक में डीडीजीएफ वीएन अंबाडे, नोडल अधिकारी नरेश झूरमुरे, वन्य जीव विभाग के सीएफ युवराज, केंद्र सरकार के तकनीकी अधिकारी एनके डेमरी, मेलघाट के डीसीएफ पियूषा जगताप, सिड़को के कार्यकारी अभियंता देवेंद्र जामनेकर, सहायक अभियंता अमोल निमसलकर, भारत सरकार के एआईजी सीबी तहसीलदार उपस्थित थे. सबसे पहले स्काई वॉक के संदर्भ में वन व वन्यजीव विभाग तथा पर्यावरण विभाग ने कौनसी खामियों के कारण ही यह काम रूका पड़ा है.

    इस पर चर्चा शुरू हुई. जिसके बाद पावर पाईंट प्रेजेंटेशन कर पूरे प्रोजेक्ट की जानकारी ली. मेलघाट के सर्वांगीण विकास के लिए यह प्रोजेक्ट तत्काल पूर्ण करने के निर्देश सांसद ने दिए. नवनीत राणा ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार की लापरवाही और प्रोजेक्ट रिपोर्ट न देने के कारण ही स्काई वॉक का काम लंबित पड़ा है.

    विरोधियों पर साधा निशाना 

    सांसद राणा ने किसी का नाम लिए बगैर कहा कि कुछ लोग अधूरी जानकारी के कारण लोगों को भ्रमित करने का प्रयास कर रहे है. राज्य सरकार और सिडको ने केंद्र सरकार के पास अधूरा प्रस्ताव भेजने के कारण ही स्काई वॉक काम रूका पड़ा है. यह तथ्य सामने आ चुका है. इसीलिए श्रेय लेने की बजाय केवल विकास पर सहयोग करें.