CSTPS contract workers strike for bonus

अमरावती. गुरुवार को सैकड़ों श्रमिकों ने केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. केंद्रीय कामगार संगठन, स्वतंत्र फेडरेशन व एसोसिएशन की ओर से किसान विरोधी नीति के विरोध में देशव्यापी हड़ताल कर तीव्र विरोध जताया. इस हड़ताल को 10 केंद्रीय श्रमिक संगठनों व सहयोगी संगठनों ने समर्थन दिया. नेहरु मैदान से केंद्रीय कामगार संगठन संयुक्त कृति समिति की ओर से कलेक्ट्रेट पर मोर्चा निकाला गया. 

कामगार कानून रद्द करें 

देश की खराब होती वित्तीय स्थिति और बढ़ती बेरोजगारी को केंद्र सरकार जिम्मेदार होने का आरोप महाराष्ट्र बिक्री व वैद्यकीय प्रतिनिधि संगठन ने किया है. गुरुवार को केंद्र सरकार के नीति के विरोध में कामगारों ने जबरदस्त नारेबाजी करते हुए निषेध किया. नेहरु मैदान से निकाला गया मोर्चा काटन मार्केट परिसर, इर्विन चौक से होते हुए मार्गक्रमण कर जिलाधिकारी कार्यालय पर धमका. इस मोर्चे में जिले के सैकड़ों कामगार शामिल हुए. मोर्चे के लिए जिलाधिकारी कार्यालय परिसर में भी तगड़ा पुलिस बंदोबस्त किया गया.

कामगारों को गुलाम करने वाले कामगार संहिता रद्द करें, किसानों के लिए बनाए गए कानून रद्द करें, सभी को पूरानी पेंशन योजना लागू करें, ईपीएस 95 में सुधार करने समेत कई मांगों का ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा गया. आंदोलन में उदयन शर्मा, पीबी उके, डीएस पवार, चंदू बानुवाकोड़े, तुकाराम भस्मे, सुभाष पांडे, जेएम कोठारी, राजेंद्र भांबोरे, निलकंठ ढोके के साथ सैकड़ों कामगार शामिल हुए. 

12 बैकों का कामकाज प्रभावित 

ऑल इंडिया बैंक अप्लाइज एसोशिएशन व ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन तथा ऑल इंडिया बैंक रिटाइरी फेडरेशन के बैनर तले जिले की 12 से अधिक बैंकों का कामकाज प्रभावित हुआ. बैंक के व्यवहार निपटाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा. सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकों का निजीकरण करने से बैंक का अस्तित्व ही खतरे में पड़ गया है. आंदोलन में सुधीर लसनापुरकर, चिन्मय कलोती, विनोद ठाकरे, अनिल भोंडे, नाजिया खान, आदित्य तारे के साथ संगठन के हजारों कर्मचारी शामिल हुए. 

जिप में काला फीता लगाकार काम

केंद्रीय कामगार संगठन की ओर से आयोजित आंदोलन को समर्थन देते हुए जिला परिषद कर्मचारी संगठन की ओर से काला फीता लगाकर काम किया गया. आंदोलन में अध्यक्ष पंकज गुल्हाने, कार्याध्यक्ष संजय खारकर, महासचिव समीर चौधरी, गजानन कोरड़े, गजानन जुनघरे, शेख इमरान रफीक, प्रशांत धर्माले, लक्ष्मण मरकाम, ऋषिकेश कोकाटे, राजेश रोंघे, विजय कोठाले, प्रसन्न पंच, मंगेश मानकर, गजेंद्र पाटिल, नितिन बद्रे, राजेश पवार, दिनेश राऊत, प्रकाश गौरखेड़े, विजय कविटकर, विजय उपरीकर, अमोल कावरे, पंकजा आसरे समेत अन्य कर्मचारी शामिल हुए.