File Photo
File Photo

अमरावती. नागरिकों के जानो-माल की रक्षा के लिए दिन-रात तैनाती के बीच लगातार 5 महिनों से लोगों को कोरोना वायरस से बचाने पुलिस अधिकारी व कर्मचारी सड़कों पर पहरा दे रहे हैं. कोई घर से अकारण बाहर ना निकले, इसके लिये कोरोना काल में अपने परिवार से भी दूर रह रहे कोरोना योध्दा पुलिस अधिकारी-कर्मी भी इस वायरस की चपेट में आ रहे है. जिले में शहर के सर्वाधिक 25 और ग्रामीण के 9 पुलिस अधिकारी-कर्मचारी कोरोना बाधित हो चुके हैं. इसी क्रम में रविवार को प्राप्त लैब रिपोर्ट में गाड़गे नगर के दुय्यम थानेदार समेत 1 पीएसआय और 2 रायटर भी पॉजिटिव मिले है. 

कल्याण सहायता निधि का आधार
पुलिस विभाग में अधिकारी व कर्मचारी पुलिस कल्याण सहायता निधि से विभिन्न बीमारी और आ‍वश्यक कामों के लिये मदद दी जाती है. कोविड-19 के इलाज के लिये अनुमति प्राप्त हास्पीटल यदि पुलिस पैकेज में है तो ऐसे अस्पतालों में पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों का कोविड-19 का उपचार खर्च पुलिस कल्याण निधि से वहन किया जा रहा है. कोतवाली पुलिस थाने में कार्यरत एक महिला पुलिस कर्मी की कोविड-19 की चपेट में आने से मौत हुई है. जिससे शासन ने इस महिला पुलिस कर्मी के परिजनों को 50 लाख रुपये का सानुग्रह अनुदान दिया है. कोरोना बाधित पुलिस कर्मियों के मेडिकल बिल अन्य निजी अस्पतालों में मंजूर करने की प्रक्रिया पुलिस विभाग की ओर से शुरू है. पता चला है कि गाड़गे नगर के एक पुलिस हवलदार को वलगांव रोड स्थित बेस्ट हास्पिटल में उपचार के लिये दाखिल कराया गया था. उपचार के बाद इस हास्पीटल में 50 हजार रुपये का बिल दिये जाने की जानकारी है. इसी तरह राजापेठ के एक पुलिसकर्मी को दयासागर में 63 हजार रुपये का बिल थमाया गया. जिससे पुलिस विभाग में संताप देखा जा रहा है. 

करार वाले अस्पताल में इलाज
शहर आयुक्तालय में अब तक 25 पुलिस कोरोना से बाधित हुए. जिसमें होमगार्ड का भी समावेश है. विभिन्न बीमारियों के लिये एग्रीमेंट हुए निजी अस्पतालों में पुलिस ने उपचार कराया तो उनके संपूर्ण मेडिकल बिल मंजूर किये जाते हैं. ड्यूटी पर मौत होने पर संबंधित पुलिस अधिकारी-कर्मचारी को आर्थिक मदद प्रदान की जाती है.-अनिल कुरुलकर, पीआय 

ग्रामीण के 9 पुलिसकर्मी
ग्रामीण पुलिस अंतर्गत अब तक 9 पुलिस कर्मचारी कोरोना से संक्रमित हुए. जिसमें से 7 पुलिस कर्मी कोरोना मुक्त हो चुके हैं. 2 पॉजिटिव पुलिसकर्मियों का इलाज शुरू है. जिन अस्पतालों के साथ पुलिस का करार हुआ है, उन अस्पतालों में पुलिस कर्मियों के उपचार का खर्च शासकीय नियमानुसार मंजूर होता है.-श्याम घुगे, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक