ST bus

अमरावती. राज्य सरकार ने महाराष्ट्र राज्य मार्ग परिवहन महामंडल को यात्री यातायात के साथ ही यात्री वाहनों से अन्य वस्तु लाने ले जाने की मंजूरी प्रदान की. उसके अनुसार महामंडल ने 21 मई से माल ढुलाई की शुरुआत की. माल ढुलाई के दाम काफी कम होने से नागरिक भी इसका इस्तेमाल अत्याधिक कर रहे है. माल ढुलाई की सेवा का लाभ किसान, व्यापारी, लघु व बड़े उद्योजक तथा शासकीय अर्ध शासकीय को दिया गया है. जिससे एसटी महामंडल ने अभी तक 68 लाख से अधिक राजस्व प्राप्त किया है. 

माल ढुलाई में भी जीता विश्वास 

महामंडल ने अभी तक माल ढुलाई ट्रक द्वारा 1 हजार 276 फेरियां चलाई हैं. जिसमें से एक लाख 93 हजार 251 किलो मीटर यातायात की. जिसमें से महामंडल को 67 लाख 12 हजार रुपयों की आय प्राप्त हुई है. माल का यातायात पूर्णत: सुरक्षित और समय में किए जाने से सुरक्षित व विश्वास निर्माण हुआ. यह सेवा 24 घंटे होने से एसटी की माल ढुलाई सोने पर सुहागा साबित हुई. कोविड-19 का प्रादुर्भाव रोकने के लिए लॉकडाउन घोषित किया गया. आम यात्रियों के लिए महामंडल ने यातायात शुरू रखी.

1 जून से चरणबध्द तरीके से अनलाक प्रक्रिया शुरू की गई. यात्री कम होने से विभाग को 2 से 3 लाख रुपयों की आय प्राप्त हुई. जिसके पश्चात 21 अगस्त से 50 प्रतिशत क्षमता से आंतर जिला यातायात को अनुमति दी गई. 18 सितंबर से पूर्ण क्षमता से यातायात शुरू हुई. बावजूद इसके यात्रियों के अत्यल्प प्रतिसाद के कारण 10 से 12 लाख रुपयों की आय एसटी को प्राप्त हो रही है. 

दिवाली के बाद बढ़ा राजस्व

नवंबर माह में दीपावली का त्यौहार रहने से यात्री यातायात को अच्छा प्रतिसाद मिला. इसके कारण महामंडल के उत्पादन में बढ़ोतरी शुरू हुई. उसके अनुसार दिवाली के बाद रोजाना 33 से 34 लाख रुपयों की आय प्राप्त हो रही है. आंतर राज्य यातायात में हैदराबाद, खंडवा, भोपाल, बर्हानपुर, छिंदवाडा, बैतुल, मुलताई, पांढुर्णा ऐसी एसटी फेरियां शुरू की गईं.

आंतर जिला यातायात में नागपुर, पुणे, औरंगाबाद, नांदेड़, परभणी, माहुर, अंबेजोगाई, लातुर, बीड़, बुलडाना, चंद्रपुर, नाशिक, जलगांव आदि फेरियां भी शुरू की गई है. प्रवासी यातायात में अमरावती विभाग में 1 हजार 76 फेरियां किए जाने की जानकारी महामंडल ने दी हैं.