File Photo
File Photo

    अमरावती.  सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में 20 माह से वेतन की प्रतीक्षा कर रहे शल्यचिकित्सकों (सर्जन) के वेतन का मामला विधायक सुलभा खोड़के ने सुलझा लिया है. इसे लेकर उन्होंने उपमुख्यमंत्री तथा वित्त मंत्री अजित पवार से चर्चा की थी. जिसके बाद अजीत पवार ने वित्त विभाग को सर्जनों का वेतन अदा करने के लिए तत्काल फंड रिलीज करने के निर्देश दिए है.

    हडताल पर भी नहीं जागा था प्रशासन

    कई पुरानी बीमारियों और जटिल सर्जरी के इलाज के लिए वरदान साबित हो रहे पश्चिमी विदर्भ के एकमात्र विभागीय रेफरल सेवा अस्पताल में पिछले 12 वर्षों से कई सर्जन चिकित्सा सेवाएं प्रदान कर रहे हैं. कोरोना काल में भी उनकी सेवा अविरत जारी है. लेकिन उनके वेतन का मसला पिछले 20 महिनों से लंबित है. इस बीच, सर्जन अक्टूबर और नवंबर 2020 में बकाया वेतन की मांग को लेकर हड़ताल पर चले गए.

    उस समय स्वास्थ्य सह संचालक, मुंबई व जिलाधीश से लिखित आश्वासन मिलने के बाद हड़ताल वापस ले ली गई. लेकिन सुपर स्पेशियलिटी के सर्जनों को पांच महीने की अवधि के बाद भी 20 महीने से लंबित वेतन नहीं मिलने से विधायक सुलभा खोडके ने इसके लिए प्रयास किया.