तहसीलवार आवश्यकतानुसार पेश करें प्रस्ताव

  • जल जीवन मिशन की समीक्षा में प्रशासन को निर्देश

अमरावती. जल जीवन मिशन द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में हर घर में नल कनेक्शन का लक्ष्य है. जिले के सभी क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने जलापूर्ति के अधिकाधिक कार्यों को शामिल कराना आवश्यक है. जिसके चलते तहसीलवार आवश्यकताएं तथा जनप्रतिनिधियों की सूझावों पर विचार कर प्रस्ताव पेश करने के निर्देश राज्य की महिला व बालविकास मंत्री तथा जिले की पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर ने रविवार को सर्किट हाऊस पर हुई जल जीवन मिशन की समीक्षा बैठक में दिए. 

मिशनमोड पर काम पूर्ण करें

पालकमंत्री ने कहा कि जल जीवन मिशन का उद्देश्य हर घर में नल कनेक्शन के माध्यम से शुद्ध पेयजल प्रदान करना है. इसके अनुसार, ग्रामीण क्षेत्रों में जहाँ आवश्यकता है, वहाँ विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं का निर्माण किया जाना चाहिए. इसके लिए, तहसील की आवश्यकताओं और स्थानीय जनप्रतिनिधियों की सुझावों पर विचार करते हुए, समय पर पूर्ण प्रस्ताव प्रस्तुत किए जाने चाहिए. इन कार्यों को जलापूर्ति कार्य की प्राथमिकता को ध्यान में रखते हुए मिशन मोड पर पूरा किया जाना चाहिए. इस समय विधायक बलवंत वानखड़े, जिला परिषद अध्यक्ष बबलु देशमुख, पूर्व विधायक वीरेंद्र जगताप, जिप मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमोल येडगे, जिप जलापूर्ति अभियंता राजेंद्र सावलीकर, हरी मोहोड आदि उपस्थित थे.

सप्ताहभर बाद फिर समीक्षा

इस संबंध में, तहसीलस्तर पर गुटविकास अधिकारियों से स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ चर्चा कर योजनाबद्ध कार्यों में उनके सुझावों को शामिल करना चाहिए. इस प्रक्रिया को एक सप्ताह के भीतर पूर्ण की करें. सप्ताहभर बाद इसकी फिर से समीक्षा की जाएगी. जिन कार्यों को मंजूरी की की आवश्यकता है, उन्हें शीघ्रता से पूरा करने की हिदायत भी पालकमंत्री ने दी.

47 प्रश काम पूरा

जल जीवन मिशन में ग्रामीण क्षेत्रों में 4 लाख 56 हजार 621 घरों में से, इस वर्ष 94 हजार 415 घरों को नल कनेक्शन से जोडने का लक्ष्य है. जिसमें से 44 हजार 606 नल कनेक्शन याने 47 प्रतिशत का काम पूरा हो चुका है. 49 हजार 809 कनेक्शन का काम शेष है. इस मिशन के माध्यम से हर गांव में शतप्रतिशत घरेलू नल कनेक्शन दिए जाएंगे.