हजारों रिहायशी इलाकों की बदलेंगी पहचान, 1900 गांवों में 2029 बस्तियों का समावेश

अमरावती. जिला ही नहीं तो राज्य से जातियों में चलते आ रहे भेदभाव को दूर करने जाति सूचक बस्तियों के नाम ही अब बदलने का निर्णय सामाजिक न्याय विभाग द्वारा लिया गया है. जिन बस्तियों के साथ जाति सूचक शब्द जुड़े हैं इन रिहायशी बस्तियों के नामों को बदला जाएगा. जिसके अनुसार जिले के 1900 गावों की 2029 रिहायशी बस्तियों को अब नये नाम मिलेंगे और इन गांवों में भीमनगर, सिध्दार्थ नगर, ज्योति नगर, शाहू नगर जैसे नए नाम वाले इलाके शामिल होंगे. 

840 ग्रामपंचायतों का समावेश 

बता दें कि, जिले की 14 तहसीलों में 840 ग्रामपंचायतें है, जिनमें अनुसूचित जाति व जमाति के परिवारों की संख्या लाखों में है. जिले में कई गांवों सहित रिहायशी इलाकों, गलियों और मोहल्लों के नामों के साथ विगत लंबे समय से जातिवाचक शब्द जुड़े हुए है. ऐसे में चाहकर भी महाराष्ट्र जैसे प्रगतिशिल राज्य में जाति व्यवस्था समाप्त नहीं हो पा रही.

ऐसे में सामाजिक सौहार्द व सद्भभाव निर्माण करते हुए राष्ट्रीय एकता बढ़ाने की दृष्टि से इन नामों को बदलने का निर्णय लिया गया है. साथ ही राज्य सरकार द्वारा गांवों व बस्तियों के नाम के साथ जातिसूचक शब्द जोड़ने की प्रथा को बंद करने की नीति बनाई गई है. जिसके तहत ही गांव, बस्तियों व गलियों कोनगर की पहचान देने का निर्णय लिया गया है. 

सरकार ने किसी भी रिहायशी इलाके को विशिष्ट जाति का नाम देना सर्वथा अनुचित माना है. इस समय यद्यपि इन गांवों व गलियों का समूचित विकास हो चुका है. लेकिन इसके बाद भी इन इलाकों को लेकर लोगों की मानसिकता बदलनी नहीं है. 

आदेश प्राप्त होते ही कार्रवाई 

राज्य सरकार ने हाल ही में जातिसूचक नामों के माध्यम से पहचाने जानेवाली बस्तियों के नाम बदलने का निर्णय लिया है. लेकिन अभी तक इस संदर्भ में लिखित रुप से कोई आदेश प्राप्त नहीं हुए. जैसे ही आदेश प्राप्त होंगे वैसे ही समाजकल्याण विभाग की ओर से सूची बनाने का काम शुरू किया जाएगा. इस संदर्भ में सरकारी स्तर पर कोई आदेश आने के बाद निर्देशो के अनुसार कार्रवाई नहीं की जाएगी. – दीपा हेरोड़े, जिला समाजकल्याण अधिकारी 

तहसील निहाय गांव व बस्तियों के नाम 

अमरावती-162, नांदगांव खंडेश्वर 228, भातकुली-156, अचलपुर-194, चांदूरबाजार-139, मोर्शी-207, वरुड़-145, चांदूर रेलवे-130, तिवसा-114, दर्यापुर-221, अंजनगांव सुर्जी-189, चिखलदरा-56, धारणी 98, धामणगांव रेलवे 165 आदि का समावेश है.