PCMC कमिश्नर नहीं मिले तो उनकी नेमप्लेट पर फेंकी स्याही, पिंपरी चिंचवड़-महानगरपालिका में हंगामा

  • भाजपा नगरसेविका समेत महिला कार्यकर्ता पुलिस हिरासत में

पिंपरी. रिश्वतखोरी के मामले के बाद पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका (Pimpri-Chinchwad Municipal Corporation) में गुरुवार को तब खलबली मच गई जब नागरी समस्याओं को लेकर महानगरपालिका कमिश्नर राजेश पाटिल (Municipal Commissioner Rajesh Patil) से मिलने पहुंची महिलाओं ने जोरदार नारेबाजी करते हुए कमिश्नर की नेम प्लेट (Name Plate) पर स्याही (Ink) फेंकी। बताया जा रहा है महिलाओं को महानगरपालिका कमिश्नर से मिलने नहीं दिया गया तो गुस्से में उनकी नेमप्लेट पर स्याही फेंकी गई। इसकी खबर लगते ही पिंपरी पुलिस की फौज महानगरपालिका मुख्यालय में दाखिल हुई और भाजपा नगरसेविका आशा शेंडगे समेत हंगामा कर रही महिलाओं को हिरासत में लिया। इसके बाद पूरा महानगरपालिका मुख्यालय पुलिस छावनी में तब्दील हो गया।

कासारवाड़ी-दापोड़ी प्रभाग से भाजपा की नगरसेविका आशा शेंडगे आज दोपहर महिला कार्यकर्ताओं के साथ महानगरपालिका मुख्यालय पहुंची थी। उन्होंने बताया कि कासारवाडी में भूमिगत गटर के निर्माण कार्य के लिए सड़क खुदाई की जा रही है। उसी में अब स्मार्ट सिटी के कामों के लिए खुदाई की जा रही है। ऐन गणेशोत्सव के दौरान खुदाई से नागरिकों को काफी परेशानी हो रही है। गणेशोत्सव तक खुदाई का काम रोकने की मांग की जा रही है। शेंडगे ने इस मसले पर महानगरपालिका कमिश्नर से मिलकर चर्चा की थी तब उन्होंने खुदाई का काम रोकने को लेकर आश्वस्त किया था। इसके बावजूद स्मार्ट सिटी के कामों के लिए खुदाई शुरू की गई। जब स्मार्ट सिटी के सह शहर अभियंता अशोक भालकर को पूछा गया तो उन्होंने खुदाई होगी ही, ऐसा स्पष्ट किया। 

भालकर पर स्याही पोतने की थी योजना

इस पर नगरसेविका आशा शेंडगे का पारा चढ़ गया। वह महिला कार्यकर्ताओं के साथ महानगरपालिका मुख्यालय पहुंची। पहले वे मुख्यालय की पहली मंजिल पर भालकर के कार्यालय में गई। जब वे अपने दफ्तर में नहीं मिले तो सारी महिलाओं के साथ शेंडगे चौथी मंजिल पर महानगरपालिका कमिश्नर राजेश पाटिल के दफ्तर पहुंची। यहां पहुंचकर महिलाओं के साथ नीचे बैठकर नारेबाजी शुरू कर दी गई। कुछ महिलाओं ने अपने साथ स्याही की बोतल लायी थी। बताया जा रहा है कि उनकी योजना भालकर पर स्याही पोतने की थी। जब वह नहीं मिले और सुरक्षा कर्मियों ने महानगरपालिका कमिश्नर से भी मिलने नहीं दिया तो महिलाओं ने उनकी नेमप्लेट पर स्याही फेंककर प्रशासन की निंदा की।  इस घटना की जानकारी मिलते ही पिंपरी पुलिस की टीम पूरी फौज के साथ यहां पहुंची और नगरसेविका शेंडगे और उनके साथ की महिलाओं को हिरासत में लिया।