The poor work of the newly built Kopar Bridge, the crater soon after the inauguration

    कल्याण. कल्याण डोंबिवली महानगरपालिका (Kalyan Dombivli Municipal Corporation) द्वारा डोंबिवली पूर्व (Dombivli East) और पश्चिम को जोड़ने वाले रेलवे लाइन के ऊपर हाल ही में बनाये गए कोपर ब्रिज (Kopar Bridge) के उद्दघाटन के तुरंत बाद हुए गड्ढे से उक्त पुल का काम घटिया दर्जे का होने की बात सामने आई है। इसका वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है और संबंधित विभाग के अधिकारी और पुल के ठेकेदार द्वारा की मिलीभगत से भ्रष्टाचार होने की चर्चा जोरों से चल रही है। लोकार्पण के तुरंत बाद हुए गड्ढे वीडियो वायरल होने पर महानगरपालिका ने भी एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर अपनी सफाई दी है।

    कोपर ब्रिज के तुरंत बाद, पुल पर हुए गड्ढे की खबर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। जिससे महानगरपालिका प्रशासन की आलोचना की जाने लगी इसके तुरंत  बाद हरकत में आया महानगरपालिका प्रशासन ने एक प्रेस विज्ञापित जारी कर अपनी सफाई में कहा कि  दरअसल डोंबिवली में डोंबिवली पूर्व-पश्चिम को जोड़ने वाला कोपर फ्लाईओवर। जो नागरिकों के आवागमन के लिए बहुत ही अहम है। गणेशोत्सव से पहले पूरा हो गया है। यह पुल करीब 1 साल और 4 महीने से कम समय में फ्लाईओवर का निर्माण किया गया है। क्यों कि गणेशोत्सव के दौरान आवागमन में नागरिकों को असुविधा न हो,  पुल की डामरिंग में मैस्टिक डामर शामिल है। लेकिन मैस्टिक डामर का काम पूरा करने में लगभग एक महीने का समय लगता है और इसके लिए कठोर ऊन की आवश्यकता होती है।

    फ्लाईओवर यातायात एक परत के साथ शुरू किया गया था। काम के दौरान भारी बारिश के कारण कोपर पुल पर कुछ जगहों पर गड्ढे होने की आशंका जताई जा रही थी। आज जो गड्ढा है वह रेलवे विस्तार जोड़ की तरफ है। बारिश शुरू होने के बाद भीषण गर्मी में मैस्टिक डामर का काम शुरू कर दिया जाएगा।  महानगरपालिका के शहर अभियंता ने कहा है कि बंधित ठेकेदार को अपने खर्चे पर मरम्मत कार्य कराना अनिवार्य है। महानगरपालिका प्रशासन की सफाई कुछ भी हो पुल के निर्माण कार्य में हुए भ्र्ष्टाचार की चर्चा तो कल्याण डोंबिवली में जोरों से चल रही हैं जिससे महानगरपालिका प्रशासन की भारी किरकिरी हो रही।