चोरी की 10 बाइक जप्त

  • सिटी चौक थाना पुलिस की कार्रवाई 
  • अपराधी ने कॉलेज, अस्पताल के सामने से चुराए थे वाहन 

औरंगाबाद. पुलिस आयुक्तालय के सिटी चौक पुलिस ने कॉलेज, अस्पताल परिसर से बाइक चुरानेवाले शातिर अपराधी को बीते दिनों गिरफ्तार किया था. उससे पूछताछ करने पर उसने शहर से चुरायी हुई 10 बाइक जालना जिले के मंठा, आष्टी, परतुर में बेचने की जानकारी दी. इसी जानकारी पर पुलिस ने उन गांवों में पहुंचकर अलग-अलग ग्राहकों को बेची हुई 10 बाइक जप्त की. 

सिटी चौक थाना के पीआई संभाजी पवार ने बताया कि शहर के सीपी डॉ. निखिल गुप्ता  ने जिन स्थानों से बाइक की चोरियां होती हैं, उन स्थानों पर जाल बिछाकर बाइक चोरों को पकड़ने के आदेश दिए थे. इसी आदेश पर सिटी चौक थाना के पीएसआई प्रवीण पाथरकर, हेड कांस्टेबल अप्पा देशमुख, पुलिस नाईक संजय नंद, शेख गफ्फार, बालाजी तोटवाड, देशराज मीर, माजीद पटेल ने 14 सितंबर को मौलाना आजाद कॉलेज परिसर में जाल बिछाया. तभी 26 वर्षीय शातिर अपराधी रईस खान रियाज खान निवासी शरीफ कालोनी रोशन गेट एक बाइक चुराकर भाग रहा था. सिटी चौक पुलिस ने तत्काल शातिर अपराधी का पीछा कर नागरिकों की मदद से उसे  पकडा. पुलिस ने उससे पूछताछ करने पर उसने बाइक चोरी करने की जानकारी दी. 

फायनान्स कंपनी द्वारा जप्त बाइक बताकर  ग्राहकों को फंसाया 

पीआई संभाजी पवार ने बताया कि शातिर अपराधी रईस खान रियाज खान को पकडऩे के बाद उसकी पुलिस हिरासत ली गई. पुलिस हिरासत में उसने शहर के मौलाना आजार कॉलेज, दिल्ली गेट, आयकॉन हॉस्पिटल, जाधववाडी परिसर से 10 बाइक  चुराने की जानकारी दी. अभियुक्त रईस खान बाइक चोरी करने के बाद अपने एक अन्य साथीदार 23 वर्षीय अरुण रघुनाथ पवार निवासी जटवाडा रोड की मदद से बेचता था. यह सभी बाइक दोनों आरोपियों ने जालना जिले के मंठा, परतुर और आष्टी में बेचे. ग्राहकों को वाहन बेचते समय आरोपी अरुण पवार ग्राहकों को बता था कि वह फायनान्स कंपनी में काम करता है. जिन लोगों ने बाइक के हफ्ते अदा नहीं किए, उन वाहनों को जप्त कर उन्हें  बेचता है. ग्राहकों ने इन दोनों शातिरों के बातों पर भरोसा कर वाहन खरीदे.

पुलिस ने यह सभी वाहन जालना जिले में पहुंचकर जप्त किए. पीआई संभाजी पवार ने बताया कि जप्त किए गए सभी बाइक को लेकर चोरी के मामले दर्ज है. पीआई पवार ने बताया कि यह कार्रवाई शहर के सीपी डॉ. निखिल गुप्ता, डीसीपी निकेश खाटमोडे, एसीपी हनुमंत भापकर के मार्गदर्शन में पूरी की गई.