कोरोना मरीजों के लिए उपलब्ध होंगे ऑक्सीजन के 100 बेड

औरंगाबाद. प्रशासन की लाख कोशिशों के बावजूद  शहर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में आए दिन इजाफा हो रहा है. ऐसे में कांचनवाडी स्थित छत्रपति शाहू महाराज आयुर्वेद महाविद्यालय यानी सीएसएमएस संस्था ने कोविड केयर सेंटर का रुपांतर डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर यानी डीसीएचसी में किया है. उसके अनुसार सीएसएमएस संस्था के कोविड केयर सेंटर में ऑक्सीजन के 100 बेड आगामी 10 अक्टूबर तक उपलब्ध होंगे. यह जानकारी मनपा की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीता पाडलकर ने दी.

उन्होंने बताया कि कांचनवाडी के छत्रपति शाहू महाराज आयुर्वेद महाविद्यालय में  मनपा द्वारा शुरु किए गए कोविड केयर सेंटर में 100 ऑक्सीजन बेड शुरु करने के लिए संस्था ने पहल की है. वर्तमान में ऑक्सीजन की लाइन बिछाने का काम युध्दस्तर पर जारी है. जिलाधिकारी सुनील चव्हाण और मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय, सीएसएमएस के चैयरमैन रणजीत मुले की उपस्थिति में इसका जायजा लिया गया. यहां भर्ती किए जानेवाले कोरोना मरीजों का मनपा द्वारा इलाज किया जाएगा. जिन्हें ऑक्सीजन की जरुरत है, ऐसे मरीजों को कांचनवाडी के सीएसएमएस संस्था में शुरु किए जा रहे डीसीएचसी सेंटर में भर्ती किया जाएगा. गौरतलब है कि कोरोना महामारी की चपेट में आए गंभीर मरीजों को इन दिनों बड़े पैमाने पर ऑक्सीजन की जरुरत महसूस हो रही है.

7 दिन का प्रशिक्षण दिया जा रहा

ऐसे में मनपा प्रशासन ने इस महामारी से पीडि़त मरीजों को मनपा द्वारा शहर में शुरु किए गए 5 कोविड केयर सेंटर में ऑक्सीजन बेड उपलब्ध करा कर देने का निर्णय लेकर काम शुरु किया गया है. काम पूरा होने के बाद 5 कोविड केयर सेंटर का रुपांतरण डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर यानी डीसीएचसी में होगा. इस सेंटर में भर्ती होनेवाले मरीजों का इलाज करने के लिए 20 डॉक्टर और 16 नर्स को घाटी अस्पताल में 7 दिन का प्रशिक्षण दिया जा रहा है. इस प्रशिक्षण के बाद वे सीएसएमएस के सेंटर में जॉइन होंगे. इस स्थान पर मनपा के डॉक्टर, स्वास्थ्य कर्मचारी भी साथ रहेंगे. यह जानकारी मनपा की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीता पाडलकर ने दी.