‘स्वैब कलेक्शन अपने द्वार’ पर अमलीजामा पहनायेगी औरंगाबाद मनपा

औरंगाबाद. शहर में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. संक्रमितों की बढ़ती चैन को तोडऩे के लिए मनपा प्रशासन ने स्वैब कलेक्शन अपने द्वार पर यह मुहिम हाथ में लेने का निर्णय लिया है. इस मुहिम के अंतर्गत कोरोना बाधित मरीज के घर से आस पास वाले 200 से 250 मीटर तक के घरों के नागरिकों की कोरोना टेस्ट के लिए स्वैब के नमूने लिए जाएंगे. उसके लिए मनपा की टीम संबंधित बस्तियों में पहुंचकर नमूने लेगी.

मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय ने कोरोना के बढ़ते कहर पर लगाम लगाने के लिए नोडल अधिकारियों के साथ बैठक लेकर मंथन किया. बैठक में प्रशासक पांडेय ने कोरोना प्रतिबंध के लिए अधिकारियों को 10 प्रकार की सूचनाएं की. आयुक्त ने अधिकारियों को सूचित किया कि स्वास्थ्य अधिकारियों की जिम्मेदारी तथा वह जिम्मेदारी  किस तरह निभाएं इसको लेकर विस्तृत परिपत्रक निकाले. इसमें कॉन्टेक्ट मैपिंग यानी संदिग्धों को ढूंढना, टेस्ट करना, मरीजों को ट्रान्सफर करना, कंटेनमेंट जोन का सर्वेक्षण आदि जिम्मेदारियां संबंधित स्वास्थ्य अधिकारियों की रहेंगी. 

घर से लिए जाएंगे नागरिकों के स्वैब 

कोरोना के बढ़ते कहर पर लगाम लगाने के लिए स्वैब कलेक्शन अपने द्वार पर यह अभियान चलाकर संदिग्धों के स्वैब के नमुने घर पहुंचकर लें, स्वैब के नमूने  लेने से पूर्व इस परिसर में एक दिन पहले लॉउडस्पीकर के माध्यम से नागरिकों को सूचित करें. साथ ही स्वैब के टेस्ट लेने के बाद रिपोर्ट आने तक संबंधित संदिग्धों को उनके घर में रखें. इसको लेकर उन लोगों को सूचित भी करें. 

 एक-एक व्यक्ति का टेस्ट

मनपा प्रशासक ने अधिकारियों को सूचना करते हुए कहा कि जिस घर में कोरोना मरीज मिलेगा, उस घर के 200 से 500 मीटर परिसर में आनेवाले सभी नागरिकों के टेस्ट लिए जाए. लोगों की भीड़ न करते हुए एक-एक व्यक्ति को बुलाकर स्वैब लिया जाए. जिस शहर बस में मरीजों को ले जाया जाएगा, उसके सामने वाले परिसर में स्वैब कलेक्शन अपने द्वार पर यह बोर्ड लगाए. 

कोरोना मुक्त मरीजों का तैयार करें डिजीटल रिकॉर्ड

प्लाज्मा थेरपी के सहारे जितने मरीज बेहतर होकर घर पहुंचे हैं, उनका मोबाइल नंबर, पता आदि का डिजीटल रिकॉर्ड रखने की सूचना भी प्रशासक पांडेय ने अधिकारियों को दी. साथ ही एंटीजन फैसिलीटी तैयार करना, 20 हजार आरटीसीपीआर किट मंगाकर लेना, इसके अलावा  एम्बुलेंस व्यवस्थापन, बारिश से जुड़ी बीमारियां, कंटेनमेंट जोन इन विषयों पर विस्तृत परिपत्रक निकालने की सूचना भी प्रशासक पांडेय ने की. 

स्मार्ट बस उपलब्ध कराकर दी जाए

शहर में कॉन्ट्रैक्ट मैपिंग के लिए 10 दलों की निर्मिती करने  की सूचना भी प्रशासक पांडेय ने अधिकारियों से की. उसके अनुसार हर दल में स्वास्थ्य अधिकारी सहित 5 सदस्य रहेंगे. हर दल को मरीजों को लाने- ले जाने के लिए एक स्मार्ट शहर बस उपलब्ध कराकर दी जाए. आगामी एक पखवाड़े तक कॉन्ट्रैक्ट मैपिंग का प्रारुप पेश करने के निर्देश भी प्रशासक पांडेय ने अधिकारियों को दिए. 

 हाउसिंग सोसाइटी में कोरोना प्रतिबंधित समिति 

शहर के हर हाउसिंग सोसाइटी में कोरोना प्रतिबंधित समिति गठित करें. समिति के अध्यक्ष पद पर सोसाइटी के अध्यक्ष का चयन करें. यह समिति सोसाइटी के सदस्य लोग किस को मिले, कहां जाकर आए आदि के बारे में जानकारी एकत्रित करें. जिससे कॉन्ट्रैक्ट ट्रैसिंग में मदद होगी.गठित समिति ने ऑक्सीमीटर तथा थर्मलगन रखना तथा सोसाइटी के लोगों के शरीर के ऑक्सिजन का स्तर तथा बुखार की हर दूसरे दिन टेस्ट कर रीडिंग की रिकॉर्ड रखने की सूचना प्रशासक पांडेय ने की. 

म्हाडा के घर भी लिए जाएंगे क्वारंटाईन के लिए 

प्रशासक पांडेय के सूचना पर अब कलाग्राम के संपूर्ण 150 कमरे खोले जाएंगे. साथ ही नवखंडा कॉलेज, देवलाई तथा नक्षत्रवाडी में स्थित म्हाडा स्कीम के अंतर्गत निर्माण किए गए घरों के कमरों का इस्तेमाल भी क्वारंटाईन सेंटर के लिए किया जाएगा. डॉ. बाबासाहब आंबेडकर मराठवाड़ा विश्वविद्यालय के छात्रावास, अन्य महाविद्यालय तथा उनके छात्रावास के कमरे क्वारंटाईन केन्द्र के लिए अधिग्रहित करने की सूचना भी प्रशासक पांडेय ने अधिकारियों को की.  बैठक में  म्हाडा के सीईओ अण्णासाहब  शिंदे, मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. नीता पाडलकर, विधि सलाहकार तथा टास्क फोर्स प्रमुख अपर्णा थेटे, कार्यकारी अभियंता हेमंत कोल्हे आदि उपस्थित थे.