प्लास्टिक लाइए और अन्य वस्तुएं ले जाइए

  • छावनी प्रशासन की योजना 

औरंगाबाद. गांधी जयंती पर देश भर स्वच्छता अभियान चलाया जाता है. इस अभियान के तहत  सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता. औरंगाबाद छावनी परिसर साफ रखने के साथ ही परिसर के लोगों में गीला और सूखा कचरा अलग-अलग जमा करने का अवेयरनेस लाने के लिए प्लास्टिक के बैग, कैरिबैग जमा कर उसके बदले में अन्य वस्तुएं ले जाने का उपक्रम छावनी प्रशासन ने हाथ में लिया है. यह उपक्रम छावनी परिषद प्रशासन ने हिंदुस्थान  कोको-कोला बेवरेजेज प्रा. लि., यूएनडीपी के सहयोग से शुरु किया है. जो 2 अक्टूबर गांधी जयंती तक चलेगा.

छावनी परिषद के सीईओ विक्रांत मोरे ने बताया कि इन दिनों बड़े पैमाने पर कोविड का प्रकोप जारी है. इस पर रोक लगाने के लिए छावनी परिषद प्रशासन अलग-अलग उपाय योजनाओं पर अमलीजामा पहनाया जा रहा है. गांधी जयंती पर जनता में गीला और सूखा कचरा अलग-अलग जमा करने को लेकर अवेयरनेस लाने हेतु यूनाईटेड संयुक्त राष्ट्र विकास संघ यानी यूएनडीपी, कोको कोला कंपनी के साथ मिलकर यह उपक्रम हाथ में लिया है.

प्लास्टिक लानेवालों को बांटे गए मास्क 

सोमवार से छावनी परिसर के नागरिकों को ‘प्लास्टिक लाओ, मास्क ले जाओ’ यह उपक्रम शुरु किया गया. इस उपक्रम के तहत छावनी के कई लोगों ने अपने घर के प्लास्टिक के बैग, कैरिबैग जमा किए.उसके ऐवज में छावनी परिषद प्रशासन ने मास्क, पारले बिस्किट, कॉटन बैग, सैनिटाइजर बोतल बांटे. जिसमें पाव किलो प्लास्टिक के बदले में 1 पार्ले बिस्किट पैकेट, आधा किलो प्लास्टिक के ऐवज में 1 कॉटन मास्क, एक किलो के ऐवज में बच्चों के खिलौने, 5 पार्ले बिस्किट पैकेज, कॉटन बैग आदि वितरित किए.

छावनी अस्पताल में कोरोना टेस्ट आरंभ 

शहर के साथ-साथ छावनी परिसर में कोरोना संक्रमित मरीज पाए जा रहे थे. ऐसे में छावनी परिषद प्रशासन ने औरंगाबाद मनपा के सहयोग से छावनी   अस्पताल में एंटीजन और आरटीपीसी टेस्टिंग शुरु की है. सीईओ विक्रांत मोरे ने बताया कि अब तक छावनी के संदिग़्ध कोरोना मरीजों की कोरोना टेस्टिंग मनपा द्वारा गोलवाडी नाके पर शुरु की. टेस्टिंग केन्द्र अथवा मनपा के अस्पतालों में की जा रही थी, परंतु बीते गुरुवार से छावनी परिषद प्रशासन ने अपने अस्पताल में कोरोना टेस्टिंग आरंभ की है. प्रतिदिन 50 से अधिक कोरोना संदिग्ध लोगों की एंटीजन और आरटीपीसी टेस्टिंग की जा रही है.