CM Thackeray to inaugurate Kalyan Dombivali Smart City Operations Center

  • पालकमंत्री सुभाष देसाई ने दी जानकारी

औरंगाबाद. बीते 15 सालों से प्रलंबित शहर की पेयजल समस्या हल करने के लिए राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) द्वारा मंजूर की गई 1680 करोड़ की नई पेयजल योजना के काम का भूमिपूजन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) के हाथों शनिवार दोपहर 12.30 बजे गरवारे स्टेडिय़म पर आयोजित कार्यक्रम में होगा। 

यह जानकारी राज्य के उद्योग मंत्री तथा औरंगाबाद जिले के पालकमंत्री सुभाष देसाई (Subhash Desai) ने पत्रकारों को ऑनलाइन संबोधित करते हुए दी। उन्होंने बताया कि इस योजना के काम के भूमिपूजन की पूर्ण तैयारी हो चुकी थी, लेकिन कोरोना महामारी के चलते इस योजना के काम का भूमिपूजन होने में काफी समय बीता है। जनवरी माह में सीएम ठाकरे जब औरंगाबाद आए थे, तब उन्होंने औरंगाबाद वासियों को आश्वासन दिया था कि नई पेयजल योजना का काम जल्द आरंभ होगा। यह योजना जीवन प्राधिकरण के माध्यम से पूरी की जाएगी। योजना का काम 3 साल में पूरा होगा। इस योजना पर कुल 1680 करोड़ रुपए खर्च होंगे। योजना का काम पूरा होने के बाद उसका किसी प्रकार से निजीकरण नहीं किया जाएगा, जिससे काफी कम कर में पानी औरंगाबाद वासियों को मिलेगा। 

महाराष्ट्र के सबसे बड़ी पेयजल योजना 

पालकमंत्री सुभाष देसाई ने बताया कि औरंगाबाद के लिए मंजूरी की गई नई 1680 करोड़ की पेयजल योजना महाराष्ट्र की सबसे बड़ी पेयजल योजना होगी। योजना को पूरा करने के लिए जीवन प्राधिकरण व मनपा का एक संयुक्त प्रकल्प व्यवस्थापन यूनिट गठित किया गया है। वर्तमान में औरंगाबाद शहर की जनसंख्या 15 लाख है। 2052 तक शहर की जनसंख्या 33 लाख तय समझकर उसके अनुसार योजना का काम पूरा होगा।  

शहर का कोई हिस्सा पानी से वंचित नहीं रहेगा 

सुभाष देसाई ने दावा किया कि नई पेयजल योजना से शहर का कोई भी इलाका पानी से वंचित नहीं रहेगा। उसके अनुसार योजना का नियोजन किया गया है। शहर में पेयजल आपूर्ति की समस्या के चलते कई इलाकों में आज भी टैंकरों से पेयजल आपूर्ति की जा रही है। नई योजना से शहर के सभी इलाकों में 1 हजार 911  किलोमीटर पाइप लाइन की विस्तारित व्यवस्था रहेगी। नई योजना में नक्षत्रवाड़ी में प्रतिदिन 392 एमएलडी पानी का शुद्धीकरण करने वाले जलशुद्धीकरण केन्द्र का निर्माण किया जाएगा। शहर में 53 टंकियों का निर्माण होगा। 84 किलोमीटर तक जायकवाड़ी बांध से शहर तक मुख्य  पेयजल पाइप लाइन बिछायी जाएगी। 

केन्द्र से मिली रकम का इस्तेमाल नई योजना के लिए 

जब पालकमंत्री से 10 वर्ष पूर्व केन्द्र सरकार द्वारा पेयजल योजना के लिए दी गई 241 करोड़ रुपए की निधि, जो ब्याज के साथ 500 करोड़ तक पहुंची है, क्या उस निधि का  इस्तेमाल नई योजना के काम पर होगा? इस सवाल  पर पालक मंत्री देसाई ने साफ किया कि केन्द्र से इजाजत लेकर मनपा के खाते में जमा केन्द्र सरकार की  निधि का इस्तेमाल नई योजना के लिए किया जाएगा। 

नई पेयजल योजना के काम के भूमिपूजन के अलावा मुख्यमंत्री ठाकरे के हाथों द्वारा सिडको एन-6 परिसर में बनाए जा रहे बाल ठाकरे स्मारक के निर्माण कार्य का वर्चुअल भूमिपूजन, नई सड़कों का लोकार्पण के साथ ही सफारी पार्क के निर्माण कार्य का भूमिपूजन भी सीएम ठाकरे के हाथों किया जाएगा। 

बाल ठाकरे स्मारक के निर्माण कार्य का भूमिपूजन 

देसाई ने बताया कि शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे का औरंगाबाद पर काफी प्रेम था। औरंगाबाद वासियों के मन में बाल ठाकरे की यादें हमेशा ताजा रहें, इस बात को सामने रखकर 22 करोड़ खर्च कर बाल ठाकरे स्मारक का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने दावा किया कि यह स्मारक काफी सुंदर होगा। 

सुपर औरंगाबाद बने यह सरकार की  इच्छा 

राज्य सरकार औरंगाबाद का विकास तेजी से करना चाहती है। शनिवार को कई कामों का भूमिपूजन सरकार औरंगाबाद में सुपर औरंगाबाद करना चाहती है।  पत्रकार परिषद में सेना जिला प्रमुख एवं विधायक अंबादास दानवे, विधायक प्रदीप जैसवाल, पूर्व महापौर नंदकुमार घोडेले, राजेन्द्र जंजाल, राजू वैद्य उपस्थित थे।