कोरोना संकट: औरंगाबाद वासी ले एमएचएमच एप का अधिक से अधिक लाभ

– मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय की अपील 

औरंगाबाद. कोरोना संकट के बीच मनपा प्रशासन ने मेरी हेल्थ मेरे हाथ में यानी एमएचएमएच एप लॉन्च किया है. इस एप के माध्यम से शहर के किस अस्पताल में कितने बेड उपलब्ध है. इसकी जानकारी बड़ी आसानी से उपलब्ध हो रही है. उस जानकारी के सहारे शहर के नागरिक अपने पसंद के अनुसार कोविड-19 के इलाज के लिए अस्पताल का चयन कर सकते हैं इसलिए शहरवासी एमएचएमच एप तत्काल डाउनलोड कर मनपा द्वारा दी गई स्वास्थ्य सुविधा का लाभ उठाए. यह अपील मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय ने गुरुवार को यहां की.

शहर में कोरोना संकट गहराता जा रहा है. कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या पर चिंतित मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय ने गुरुवार को  मनपा के सभी 9 जोन के आला अधिकारी, कोविड निरीक्षकों की बैठक ली. बैठक में अधिकारियों द्वारा कोविड़-19 की सारी स्थिति से अवगत होने के बाद शहर वासियों से उन्होंने यह अपील की. 

1 लाख नागरिकों ने एमएचएमएच एप डाउनलोड किया 

मनपा प्रशासक पांडेय ने बैठक में मनपा अधिकारियों को एमएचएमएच एप के पंपलेट घर-घर जाकर बांटने के आदेश दिए. पंपलेट के सहारे शहरवासियों को उक्त एप की जानकारी हासिल होंगी और नागरिक बड़ी संख्या में यह एप डाउनलोड करेंगे.बैठक में मनपा अधिकारियों ने बताया कि आज तक शहर के 1 लाख नागरिकों ने एमएचएमएच एप डाउनलोड किया है. 

1 लाख 26 हजार घरों का सर्वेक्षण

शहर के उम्रदराज लोगों के स्वास्थ्य की जानकारी इकठ्ठा करने के लिए मनपा प्रशासन ने हर घर का सर्वेक्षण शुरु किया है. इस सर्वे के तहत आज तक 1 लाख 26 हजार घरों का सर्वेक्षण पूरा किया गया.इसमें 53 हजार 500 नागरिक 50 साल से अधिक के उम्र के पाए जाने की जानकारी मनपा अधिकारियों ने बैठक में दी. सर्वे करने के काम में जूटे अधिकारियों ने बताया कि कई इलाकों के नागरिक क्वारंटाईन के डर से  अपनी उम्र छुपा रहे है. इस पर प्रशासक पांडेय ने शहरवासियों से अपील की कि जो शिक्षक एवं कर्मचारी उनके घर सर्वेक्षण के लिए आ रहे है, उन्हें सच्ची जानकारी दे. अपने शरीर की बुखार तथा ऑक्सिजन का स्तर जांचने दे. जिस व्यक्ति के शरीर में ऑक्सिजन का प्रमाण कम मिलने पर तत्काल उस व्यक्ति  पर इलाज करना आसान होगा.

गैरहाजिर शिक्षकों पर दर्ज करें अपराध 

मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय ने कहा कि सर्वेक्षण के काम के लिए जो शिक्षक आज तक जॉईन नहीं हुए, उन्हें 24 घंटे के भीतर जॉईन होने को लेकर नोटिस जारी की जाए. उसके बाद भी वे शिक्षक जॉईन नहीं हुए तो उन पर अपराध दर्ज करने के आदेश मनपा प्रशासक ने अपने मातहत अधिकारियों को दिए. कुछ कंटनमेंट झोन के नागरिक रास्ते बंद करने के लिए लगाए गए  टीन के शेड निकालकर आवाजाही कर रहे है, इसको लेकर  प्रशासक ने सक्त ताकिद देकर नागरिकों के आवाजा ही पर रोक लगाने के लिए नियंत्रण रखने के निर्देश वार्ड अधिकारियों को  दिए. अंत में प्रशासक पांडेय ने बताया कि सिप्ला कंपनी द्वारा मनपा को मेट्रोपोलिस लैब द्वारा 10 हजार कोविड टेस्ट मुफ्त कराने का आश्वासन दिया है. मेट्रोपोलिस एक निजी लैब है, उसके टेस्ट का खर्च सिप्ला देगी.