PFI के औरंगाबाद कार्यालय पर ED का छापा

  • सारे दस्तावेज लिए कब्जे में

औरंगाबाद. देश भर में बहुचर्चित सामाजिक संगठन पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के औरंगाबाद के बायजीपुरा स्थित  कार्यालय पर गुरुवार की सुबह मुंबई से आए प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने कड़े पुलिस बंदोबस्त के बीच छापा मारा. ईडी के अधिकारियों ने छापे में कार्यालय में रखे सारे दस्तावेज जब्त करने के साथ ही पीएफआई संगठन के स्थानीय पदाधिकारियों से कड़ी पूछताछ की.

इस कार्रवाई पर पीएफआई के औरंगाबाद अध्यक्ष मौलाना इरफान मिल्ली ने कड़ी नाराजगी जताते हुए कहा कि दिल्ली में जारी किसानों के आंदोलन से देश की जनता का ध्यान भटकाने के लिए केन्द्र सरकार ने ईडी का सहारा लेकर पीएफआई के कार्यालयों में छापे मारने की कार्रवाई शुरू की है.

गुरुवार की सुबह पीएफआई के बायजीपुरा कार्यालय में मुंबई से आई प्रवर्तन निदेशालय के 4 से 5 अधिकारियों की टीम ने यह छापा मारा. छापेमारी ईडी के अधिकारियों ने कड़े पुलिस बंदोबस्त के बीच कार्रवाई शुरू की. ईडी के अधिकारियों ने पीएफआई संगठन के जिलाध्यक्ष मौलाना इरफान मिल्ली, जिला कार्यकारिणी सदस्य सैयद कलीम से बंद दरवाजे में कड़ी पूछताछ की.

पूछताछ में ईडी के अधिकारियों ने पीएफआई द्वारा बीते कुछ माह में किए सामाजिक कार्यों की जांच करने के बाद इन कार्यों को अंजाम देने फंडिंग की उपलब्धता की जानकारी संगठन के पदाधिकारियों से ली. छापे के दौरान कार्यालय के हजारों लोगों की भीड़ जमा हो गई थी. छापे में ईडी के अधिकारियों ने पीएफआई  के कार्यालय में जमा सारे दस्तावेज जब्त कर संगठन के जिला कार्यकारिणी सदस्य सैयद कलीम को पूछताछ के लिए सिडको परिसर में स्थित जीएसटी कार्यालय ले गए. वहां भी काफी देर सैयद कलीम से पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया. 

पीएफआई के जिलाध्यक्ष ने साधा केन्द्र सरकार पर निशाना 

पीएफआई के जिलाध्यक्ष मौलाना इरफान मिल्ली ने कहा कि इन दिनों दिल्ली में किसान बड़े पैमाने पर आंदोलन कर रहे हैं. जिससे केन्द्र सरकार परेशान है. किसानों के आंदोलन की ओर देश के सारे नागरिकों का ध्यान लगा हुआ है. यह ध्यान भटकाने के लिए केन्द्र सरकार ने ईडी का सहारा लेकर पीएफआई के कार्यालय पर छापेमारी की है. पीएफपी के जिलाध्यक्ष  मिल्ली ने कहा कि  पीएफआई एक सामाजिक संगठन है. कोरोना से अपनी जान गंवाए लोगों को दफनाने का काम इस संगठन द्वारा बीते 8 माह से जारी है. कोरोना को लेकर जारी लॉकडाउन में औरंगाबाद के हजारों जरूरत मंद लोगों को राशन किट बांटने का काम संगठन द्वारा किया गया. सिर्फ  पीएफआई  को बदनाम करने केन्द्र सरकार के ईशारे पर ईडी ने छापा मारने का आरोप जिलाध्यक्ष मिल्ली ने लगाया.