Krishi Pump

  • महावितरण की अपील

औरंगाबाद. बिजली आपूर्ति शुरू होने के बाद कृषि पंप (Agricultural pump) तत्काल शुरू करने के लिए ग्राहकों ने कृषि पंपों को ऑटोस्विच (Autoswitch) लगाए हैं। इसलिए परिसर के सभी कृषि पंप एक ही समय शुरू होकर ट्रान्सफार्मर पर लोड अचानक बढ़ जाता है, जिससे ट्रान्सफार्मर जलना, बिजली आपूर्ति बंद होने का प्रमाण बढ़ है। इससे होने वाली असुविधा व नुकसान टालने के लिए किसानों से कृषि पंपों को ऑटोस्विच के बजाए कैपेसीटर (Capacitor)  बिठाने की अपील महावितरण (Mahavitaran) ने की है।

हर कृषि पंप  ( Agricultural pump) को क्षमता के अनुसार कैपेसीटर लगाना यह ट्रान्सफार्मर (Transformer) जलना व उसमें खराबी के प्रमाण को रोकने का बेहतर उपाय है। कैपेसीटर के चलते कम दबाव की बिजली आपूर्ति, ट्रान्सफार्मर जलने पर व खराबी आने पर मरम्मत के लिए खंडित की जाने वाली बिजली आपूर्ति आदि की समस्याओं को हल करने में मदद मिलेंगी। महावितरण ने कहा कि अधिकतर किसानों ने कृषि पंप पर कैपेसीटर नहीं बिठाए हैं, या  जिन्होंने बिठाए उनके बंद है. कुछ किसानों ने सीधे कनेक्शन जोड़ रखे हैं. इसलिए जिन्होंने कैपेसीटर नहीं बिठाए हैं, वे तत्काल कैपेसीटर लगाएं, ऐसी अपील महावितरण की ओर से की गई है। 

ऑटोस्विच का इस्तेमाल टालें 

महावितरण की ओर से कृषि पंपों को दिन व रात में ऐसे चक्राकार पध्दति से बिजली आपूर्ति की जाती है। बिजली आपूर्ति शुरू होने के बाद खेत में जाकर कृषि पंप चालू करने की तकलीफ से बचने के लिए कई स्थानों पर किसानों ने कृषि पपों को ऑटोस्विच लगाए हैं। जिससे बिजली आते ही कृषि पंप ऑटोमेटिक चालू होते हैं, जिससे ट्रान्सफार्मर पर एक ही समय लोड बढ़ने से जलने का प्रमाण बढ़ रहा है। इस पर रोक लगाने के लिए किसान ऑटोस्विच के बजाए कैपेसीटर बिठाने की अपील महावितरण द्वारा की गई है।