तीन साल में 5 लाख जरुरतों को मुफ्त खाना

    औरंगाबाद. स्थानीय सकल जैन समाज की ओर से तीन साल पूर्व शहर के सरकारी घाटी अस्पताल (Ghati Hospital) में भगवान महावीर जयंती (Lord Mahavir Jayanti) पर महावीर रसोई घर की शुरुआत की गई थी।  बीते तीन सालों में  प्रतिदिन 500 इस तरह 5 लाख 50 हजार जरुरतमंदों ने इस रसोई घर का लाभ लिया। यह जानकारी सकल जैन समाज के कार्याध्यक्ष सुभाष झांबड और महासचिव महावीर  पाटणी ने दी। उन्होंने बताया कि आचार्य विजयरत्न सुंदर सुरीश्वर मसा के प्रेरणा से सकल जैन समाज ने रसोई घर की संकल्पना पर अमलीजामा पहनाना का निर्णय तीन साल पूर्व लिया था। इस प्रकल्प का  संचालन जैन अलर्ट ग्रुप की ओर से किया जा रहा है। इस स्थान पर हर दिन 500 जरुरतमंदों को इसका लाभ मिल रहा है। महावीर रसोई घर के खाने में चपाती, सब्जी, पुलाव तथा हलवा दिया जाता है। 

    खाना बनाने के लिए श्री श्वेताबंर जैन मुर्तिपूजक संघ औरंगाबाद की ओर से कीचन व्यवस्था कर विशेष सहयोग दिया गया। बता दें कि घाटी अस्पताल में मराठवाडा के 8 जिले तथा खानदेश के तीन से चार जिलों के हजारों लोग हर साल इलाज के लिए औरंगाबाद पहुंचते है। मरीज व उनके रिश्तेदारों को खाने के लिए काफी समस्याएं आती है। इन समस्याओं को दूर करने के लिए सकल जैन समाज ने तीन साल पूर्व महावीर जयंती पर महावीर  रसोई घर की संकल्पना पर अमलीजामा पहनाया। इस उपक्रम के लिए एक दिन की दान राशि चार हजार 100 रुपए रखी गई है।

    इस दान राशि से 500 लोगों को खाना दिया जाता। इस उपक्रम में अधिक से अधिक दानशुरों ने शामिल होने की अपील इस उपक्रम के संयोजक  जीतू जैन, निलेश जैन, सागर बोथरा, निलेश जैन, रवि मुगदिया, विनोद बोकडिया, संजय संचेती, ललित पाटणी, नरेन्द्र गेल्डा, अभय गांधी, प्रविण चोरडिया, ऋषभ कासलीवाल, अजीत जैन, विलास साहुजी, प्रकाश कोचेटा, प्रविण भंडारी, अनिल संचेती, राजेश मुथा ने की है।