fine

    औरंगाबाद. बीते तीन सप्ताह से शहर में अचानक कोरोना (Corona) महामारी ने पांव पसारने शुरु किए है। ऐसे में शहर के कोचिंग क्लासेस (Coaching Classes) धारकों द्वारा सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन (Guideline) को अनदेखी करने की शिकायते मनपा प्रशासन को मिली थी। इन्हीं शिकायतों पर मनपा प्रशासन के अधिकारियों ने 43 कोचिंग क्लासेस की जांच की। जांच में गाइडलाइन की अनदेखी करते हुए 6 कोचिंग क्लासेस धारक पाए गए। उन पर कार्रवाई करते हुए 26 हजार रुपए का जुर्माना (Fine) वसूला गया। यह जानकारी मनपा की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीता पाडलकर ने दी। 

    गौरतलब है कि सितंबर से जनवरी एंड तक शहर में कोरोना महामारी का प्रकोप लगभग खत्म होने के कगार पर था, परंतु बीते तीन सप्ताह से शहर में फिर एक बार कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। हर दिन 100 से अधिक संक्रमित मरीज पाए जाने से मनपा प्रशासन सक्ते में है। 

    46 कोचिंग क्लासेस की जांच

    प्रशासन ने फिर एक बार इस महामारी को रोकने के लिए सरकार की गाइडलाइन पर सख्ती से अमलजामा पहनाने के निर्देश कोचिंग क्लासेस, मंगल कार्यालय, सिनेमा गृह, धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजकों को दी है। विवाह समारोह सिर्फ 50 लोगों के उपस्थिति में संपन्न कराने के आदेश प्रशासन द्वारा मंगल कार्यालय चालकों को दिए गए है। कोचिंग क्लासेस और मंगल कार्यालयों की जांच के लिए प्रशासन की ओर से विशेष टीमों का गठन किया गया है। इस टीम ने शहर के 46 कोचिंग क्लासेस की जांच की। जांच में 6 कोंचिंग क्लासेस धारकों पर कार्रवाई करते हुए उनसे 26 हजार रुपए जुर्माना वसूला गया। डॉ। पाडलकर  ने बताया कि कोचिंग क्लासेस के साथ ही सरकारी गाईड लाईन का पालन न करनेवाले मंगल कार्यालयों पर कार्रवाई की जाएगी। उसके लिए वार्ड स्तर पर मंगल कार्यालय धारकों को 50 लोगों के उपस्थिति में विवाह समारोह संपन्न कराने के लिए सख्त ताकिद दी जा रही है।