बारिश का कहर से फसलों का नुकसान

  • किसानों को तत्काल राहत पहुंचाने की कांग्रेस की मांग 

औरंगाबाद. पिछले कुछ सालों से औरंगाबाद जिले के लोग सूखे से परेशान थे. इस वर्ष बारिश ने कहर बरपाया है. बारिश के कहर से बेहतर रुप से आई फसलें तबाह हो रही है. हर दिन बारिश होने से हाथ में आई फसलें बरबाद होने से किसानों की नींद हराम है. ऐसे में प्रशासन ने तत्काल किसानों को मदद देकर औरंगाबाद जिले को गिला-सूखा घोषित करने की मांग जिला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने पार्टी के जिलाध्यक्ष डॉ. कल्याण काले के नेतृत्व में अपर जिलाधिकारी से मुलाकात कर एक ज्ञापन देकर की.

ज्ञापन में कांग्रेसियों ने बताया कि मानसून आरंभ होते ही जून के प्रथम सप्ताह से बारिश का सिलसिला जारी है. चालू माह में हर दिन शहर सहित जिले में बारिश का कहर जारी होने से फसलों का बड़े पैमाने पर नुकसान हो रहा है. कांग्रेस ने बताया कि मानसून के आरंभ में बारिश बेहतर होने से किसानों ने कर्ज लेकर या फिर अपने घर की वस्तुएं बेचकर खेतों में बेहतर फसलों की आस में बुआई की थी. बुआई करने के बाद लगातार बारिश जारी होने से फसलों का उत्पादन भी बेहतर हो रहा था.जिससे किसानों के चेहरों में खुशी थी, लेकिन सितंबर माह में बारिश ने कहर बरपाने से हर खेतों में आई फसलें तबाह हो रही है. जिससे किसानों की नींद हराम है. बीते कई सालों से औरंगाबाद सहित पूरे मराठवाड़ा में सूखा होने से किसान परेशान थे. इस वर्ष अधिक बारिश होने से हाथ में आई फसलें बरबाद हो रही है. ऐसे में प्रशासन ने तत्काल बारिश के कहर से किसानों के नुकसान हुए फसलों का जायजा लेकर उन्हें मदद देने की मांग कांग्रेसियों ने की. 

इनकी रही उपस्थिति

ज्ञापन देते समय जिलाध्यक्ष डॉ. कल्याण काले के अलावा पूर्व विधायक नामदेव पवार, पूर्व विधायक सुभाष झांबड, प्रदेश उपाध्यक्ष प्रकाश मुगदिया, वरिष्ठ नेता इब्राहिम पठान, किरण पाटिल डोणगांवकर, रवि काले, भाऊसाहब पाटिल जगताप, राम शेलके, विनोद तांबे, अनिल श्रीखंडे,प्रकाश जाधव, पंकज ठोंबरे, बाबासाहब मोहित पाटिल, जगन्नाथ खोसरे, शोभाताई खोसरे, जयप्रकाश नारनवरे, भाऊसाहब मगर, खालेद पठान उपस्थित थे.