महावितरण ने कार्यान्वित किए नए और स्वतंत्र 11 केवी फीडर

औरंगाबाद. वालूज एमआईडीसी के निकट ग्रामीण परिसर के गुट क्र.60, 67, 68, 70 के उद्योजकों को बार-बार खंडित  बिजली आपूर्ति के समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था. 30 से 40 औद्योगिक बिजली ग्राहकों के शिष्टमंडल ने हाल ही में महावितरण के औरंगाबाद प्रादेशिक कार्यालय के सहव्यवस्थापकीय संचालक डॉ. नरेश गिते से  मुलाकात कर बिजली आपूर्ति को लेकर आ रही समस्याओं को हल करने की मांग की थी. इस मांग पर महावितरण ने बिजली खंडित समस्या  हल करने वालूज एमआईडीसी परिसर के ग्रामीण क्षेत्र में नए एवं स्वतंत्र 11 केवी फीडर  कार्यान्वित किए.

महावितरण द्वारा  फिडर कार्यान्वित होने से वालूज एमआईडीसी क्षेत्र से सटे ग्रामीण  क्षेत्र के उद्योजकों को बिजली खंडित की समस्या से राहत मिली है .करोडी उपकेन्द्र में 5 एमवीए क्षमता के पॉवर ट्रान्सफार्मर सहित उद्योजकों के लिए नए व स्वतंत्र 11 केवी  फीडर  24 सितंबर को कार्यान्वित होने से इस परिसर के उद्योजकों को अखंडित व  सूचारु बिजली आपूर्ति होनी लगी.

सूचारू बिजली आपूर्ति होगी

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना से बिठाए गए इन नए पॉवर ट्रान्सफार्मर व नए फीडर का लाभ इस गुट के लगभग 450 से 500  औद्योगिक बिजली ग्राहकों को हुआ है. इससे पूर्व इन ग्राहकों को वालूज महानगर 33 केवी उपकेन्द्र से बिजली आपूर्ति होती थी. उस फीडर की लंबाई 15 किलोमीटर थी. उस पर कई बिजली आपूर्ति खंडित होने की समस्या हो रही थी. करोड़ी उपकेन्द्र से निकाला हुआ नया फीडर 5 किलोमीटर लंबाई वाला है. बल्कि, सिर्फ वह ग्रामीण परिसर के औद्योगिक ग्राहकों के लिए ही है. इसलिए बिजली आपूर्ति खंडित होने का प्रमाण खत्म होगा. ग्राहकों को गुणवत्ता पूर्ण व सूचारू बिजली आपूर्ति होगी. 

10 हजार ग्राहकों को फायदा होगा

इन उद्योजकों को करोडी उपकेन्द्र से बिजली आपूर्ति शुरु होने से वालूज महानगर उपकेन्द्र का लोड 2 मैगावैट से कम हुआ है. इसलिए वालूज महानगर उपकेन्द्र के लगभग 10 हजार ग्राहकों को इसका फायदा होगा. औरंगाबाद परिमंडल के मुख्य अभियंता भुजंग खंदारे, अधीक्षक अभियंता संजय सरग, ग्रामीण मंडल के अधीक्षक अभियंता संजय आकोडे, ग्रामीण विभाग-1 के कार्यकारी अभियंता जितेन्द्र वाघमारे, ग्रामीण उपविभाग-1 के उपकार्यकारी अभियंता प्रशांत तोडकर, चन्द्रशेखर दंडे, सहायक अभियंता धनंजय बाणेदार ने युध्द स्तर पर काम कर पॉवर ट्रान्सफार्मर व फीडर कार्यान्वित किया. महावितरण ने युध्दस्तर पर काम कर नए फीडर द्वारा बिजली आपूर्ति करने को लेकर उद्योजकों ने समाधन व्यक्त करते हुए महावितरण का आभार माना.