सफाई कर्मचारियों के सुरक्षा की चिंता करें मनपा प्रशासन

औरंगाबाद. शहर में इन दिनों कोरोना संक्रमण ने बड़े पैमाने पर पांव पसारे है. कोरोना के बढ़ते कहर के बीच मनपा के हजारों सफाई कर्मचारी प्रतिदिन शहर के हर इलाकों में सफाई का काम कर रहे है. सफाई का  काम करते समय कर्मचारी कोरोना से बचने के लिए किसी प्रकार की खुद की सुरक्षा नहीं कर पा रहे है. 

कोरोना संक्रमण के चलते रेड जोन में पहुंचे औरंगाबाद के सफाई कर्मचारियों की सुरक्षा की मनपा प्रशासन चिंता कर उनके स्वास्थ्य पर विशेष लक्ष्य केन्द्रीत करें. यह मांग शहर के पूर्व महापौर तथा मनपा में भाजपा के निवर्तमान गुट नेता प्रमोद राठोड ने मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय को एक पत्र सौंपकर की.

पूर्व उपमहापौर राठोड ने लिखा मनपा प्रशासक को पत्र 

प्रमोद राठोड ने मनपा प्रशासक पांडेय को दिए पत्र में बताया कि आज शहर में कोरोना पीडि़तों का आंकड़ा 1200 के करीब जा पहुंचा है. प्रशासन के लाख कोशिश के बावजूद शहर में आए दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. इसके बावजूद सफाई कर्मचारी अपनी डयूटी बखूबी निभा रहे है, परंतु डयूटी निभाते समय वे अपनी सुरक्षा को अनदेखी कर प्रतिदिन हजारों लोगों के संपर्क में आ रहे है.

जिस तरह डॉक्टरों के लिए डब्ल्यूएचओ के मार्गदर्शक तत्व के अनुसार चिंता की जाती, उसी तरह सफाई कर्मचारियों के लिए भी डब्ल्यूएचओ के मार्गदर्शक तत्व के अनुसार उनकी सुरक्षा की चिंता की जाए. क्योंकि केन्द्र व राज्य सरकार की ओर से कोरोना संक्रमण को मात देने के लिए बड़े पैमाने पर निधि उपलब्ध कराया गया है. ऐसे में शहर की सफाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभानेवाले सफाई कर्मचारियों की डब्ल्यूएचओ के मार्गदर्शक तत्व के अनुसार सुरक्षा की चिंता करने के आदेश मातहत अधिकारियों को देने की मांग शहर के पूर्व उपमहापौर प्रमोद राठोड ने मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय से की.