कोविड-19 के लिए मनपा  ने जिला प्रशासन से मांगे 32 करोड़

औरंगाबाद. शहर में कोरोना का कहर बरकरार है. कोरोना पॉजिटिव मरीजों को ढूंढकर उनका इलाज कर स्वास्थ्य बेहतर करने तक भेजने का खर्च मनपा प्रशासन द्वारा बीते 4 माह से किया जा रहा है. राज्य सरकार ने मनपा को इससे पूर्व 9 करोड़ 42 लाख रुपए की निधि दी थी. यह निधि खर्च हो जाने के चलते नए से आगामी 4 माह के लिए मनपा की ओर से जिला प्रशासन को प्रस्ताव पेश किया गया. इसमें करीब 21 करोड़ की मांग की गई. यह जानकारी मनपा के शहर अभियंता सखाराम पानझडे ने दी.

शहर अभियंता ने बताया कि राज्य सरकार ने कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को रोकने क लिए इससे  पूर्व 9 करोड़ 42 लाख का जो निधि दिया था. जिसमें राज्य सरकार ने जिलाधिकारी द्वारा आपत्ति व्यवस्थापन से 4 करोड़ तथा जिला नियोजन समिति की ओर से 4 करोड़ 17 लाख व 1 करोड़ 25 लाख का निधि दिया था.वह पूरी तरह खर्च  होकर मनपा की तिजोरी से 1 करोड़ 91 लाख रुपए अधिक खर्च हो चुके है. अभी भी शहर में बड़े पैमाने पर कोरोना संक्रमित मरीज पाए जा रहे है. उन पर मनपा प्रशासन द्वारा मुफ्त में इलाज किया जा रहा है. मनपा प्रशासन ने आगामी 4 माह के लिए दो अलग अलग प्रस्ताव दाखिल किए है, जिसमें प्रथम प्रस्ताव लॉकडाउन में किए गए उपाय योजना, खाना और अन्य खर्च के लिए है, वह  9 करोड़ 57 लाख रुपए का है.