MP Imtiaz Jalil angry over non-opening of shop seals

    औरंगाबाद. गत  करीब 22 दिनों से कामगार उपायुक्त कार्यालय के अधिकारियों द्वारा लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान शहर के खुली कई दुकानों (Shops) को सील (Seal) किए जाने की कार्रवाई के बाद आज तक उन दुकानों का सील न निकालने पर  जिले के सांसद इम्तियाज जलील (MP Imtiaz Jalil) भड़क गए । मंगलवार को सांसद जलील कामगार उपायुक्त कार्यालय पहुंचकर वहां उन्होंने कामगार उपायुक्त शैलेन्द्र पोल को घेराव कर दुकानों का सील निकालने को लेकर खूब हंगामा किया। जिससे कामगार उपायुक्त कार्यालय में काफी देर तनाव की स्थिति बनी थी।

    गौरतलब है कि शहर में जारी लॉकडाउन के दरमियान  8 मई को शहर सिटी चौक, गुलमंडी, सिडको-हडको परिसर के कुछ दुकानदार चोरी छिपे दुकानें खोलकर व्यवसाय कर  रहे थे। इस पर औरंगाबाद महानगरपालिका प्रशासन ने कामगार उपायुक्त कार्यालय के अधिकारियों के साथ कार्रवाई करते हुए 56 दुकानों को सील किया  था। इधर,  जिला प्रशासन ने 1 जून से सुबह 7 से दोपहर 2 बजे तक बाजार खोलने की इजाजत दी है, परंतु जिन दुकानों को सील किया गया, उस पर आज तक किसी प्रकार का निर्णय कामगार उपायुक्त और जिला प्रशासन द्वारा नहीं लिया गया। जिससे  दुकानदारों में बेचैनी थी।

    कामगार उपायुक्त कार्यालय पहुंचकर किया हंगामा 

    गत 23 दिनों से जिला प्रशासन ने जिन दुकानों को सील किया, उन दुकानों का सील खोलने को लेकर किसी प्रकार की कार्रवाई प्रशासन द्वारा न किए जाने से सांसद इम्तियाज जलील भड़क गए । वे मंगलवार की दोपहर सील किए दुकानदारों के साथ कामगार उपायुक्त कार्यालय पहुंचे। वहां उन्होंने कामगार उपायुक्त शैलेन्द्र पौल से मुलाकात कर जिन दुकानों को सील किया गया, उन दुकानों की सील हटाने के लिए क्या कार्रवाई की गई, इस पर स्पष्टीकरण मांगा। तब कामगार उपायुक्त पौल की बोलती बंद हुई। पौल ने बताया कि कलेक्टर सुनील चव्हाण ने उन दुकानदारों को जुर्माना लगाने के आदेश दिए है। इस पर भी सांसद जलील भड़के। उनका कहना था कि गत ढ़ाई माह से शहर में जारी लॉकडाउन से व्यापारी और उनके पास करनेवाले कामगार परेशान है। कामगारों को काम न मिलने से उनके खाने के लाले पडे़ है। ऐसे में कब तक दुकानों को सील कर रखा जाएगा। जलील ने एक दुकानदारों से 50 हजार व उससे अधिक जुर्माना लगाने  पर भी पौल को खूब खरी खोटी सुनायी। जलील ने  पौल से सख्ती से बरताव करते ही कुछ समय बाद  कलेक्टर चव्हाण का फोन आया।

    बुधवार को सभी दुकानों की सील खुलने के आसार

    कलेक्टर चव्हाण फोन पर इस मामले को अधिक गंभीर न बनाएं वरना,  मामला दर्ज करने की चेतावनी सांसद जलील को दी। इस पर जलील ने कलेक्टर को खरी-खोटी सुनाते हुए सील किए दुकानों के मामलों पर जल्द निर्णय लेने की विनंती की। इस विनंती के बाद कलेक्टर ने कामगार उपायुक्त शैलेन्द्र पौल को सील किए गए 56 दुकानों पर सुनवाई लेकर मामला हल करने के आदेश दिए। कलेक्टर के आदेश के बाद सील किए गए दुकानदारों से सुनवाई शुरु की गई। बुधवार को सभी दुकानों की सील खुलने के आसार है।