Vaccination

    औरंगाबाद. कोरोना (Corona) के जारी कहर के बीच औरंगाबाद महानगरपालिका (Aurangabad Municipal Corporation) प्रशासन द्वारा इन दिनों कोरोना टीका (Vaccine) लगाने का काम युद्ध स्तर पर जारी है। शहर में 16 जनवरी से कोरोना टीका लगाने की मुहिम शुरु हुई थी। बीते ढाई माह में शहर के 1 लाख लोगों को टीका लगाया गया। जिनमें स्वास्थ्य वर्कर्स (Health Workers) और फ्रंटलाइन वर्कर्स (Frontline Workers) अधिक शामिल है।

    सरकार के आदेश पर प्रथम चरण में स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करनेवाले कर्मचारी, डॉक्टरों को टीका लगाने के आदेश सरकार ने दिया था। उसके लिए मनपा के पास 24 हजार का पंजीकरण हुआ था। दूसरे चरण में कोरोना काल में सड़क पर उतरकर जनसेवा करनेवाले फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाने की सूचना की गई थी। उसके लिए 10 से 12 हजार फ्रंटलाइन वर्कर्स ने पंजीकरण किया था। स्वास्थ्य सेवाओं में काम करनेवाले तथा फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाने के बाद सरकार ने 1 मार्च 2021 से 60 साल के उपर के वरिष्ठ नागरिक तथा 45 ल के बीमार व्यक्ति को टीका देने की मुहिम शुरु की। प्रथम चरण में टीका लगाने की मुहिम शुरु होने के बाद शहर सहित जिले में कोरोना का कहर लगभग खत्म हो चुका था। इसी दौरान कोरोना टीका को लेकर सवाल उठने लगे। जिसके चलते लोगों ने टीका लगाने से अनदेखी की। इसी दरमियान फरवरी माह में फिर एक बार कोरोना महामारी ने पांव पसारने के बाद नागरिक टीका लगाने को प्राथमिता दे रहे है। 

    1 अप्रैल से 45 साल के ऊपर के लोगों को लगाया जा रहा टीका  

    दरमियान में 1 अप्रैल से 45 साल के उपर के लोगों को टीका लगाया जा रहा है। मनपा सूत्रों ने बताया कि प्रथम चरण में 23 हजार 443 स्वास्थ्य कर्मचारी व डॉक्टरों को पहला टीका लगाया गया। दूसरा टीका 9 हजार 189 लोगों को लगाया गया। दूसरे चरण में 17 हजार 951 फ्रंटलाइन वर्कर्स को प्रथम टीका तथा 2 हजार 377 को दूसरा टीका लगाया गया। तीसरे चरण में 15 हजार 983 बीमार व्यक्ति को प्रथम टीका तथा 21 को दूसरा टीका इसके अलावा 31 हजार 304 वरिष्ठ नागरिकों को प्रथम टीका तथा 110 को दूसरा टीका लगाया गया।