पासवान की बदौलत सीपेट संस्था की स्थापना

  • पूर्व सांसद खैरे ने रामविलास की पुरानी यादों को किया ताजा

औरंगाबाद. केन्द्रीय मंत्री और लोकजन शक्ति पार्टी के सुप्रीमो रामविलास पासवान का गुरुवार को निधन हो गया. उनके निधन पर जिले के पूर्व सांसद चन्द्रकांत खैरे ने गहरा दु:ख जताते हुए उनके द्वारा औरंगाबाद को किए गए मदद की यादें ताजा की. उन्होंने बताया कि आज शहर में सीपेट संस्था की स्थापना रामविलास पासवान की देन है. मैं जब सांसद था, तब मेरी मांग पर राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री स्व. विलासराव देशमुख ने मुझे रामविलास पासवान के नाम सीपेट की स्थापना के लिए पत्र दिया था. मेरे प्रयासों पर पासवान ने औरंगाबाद में सीपेट संस्था की स्थापना को मंजूरी दी थी.

पासवान ने भरपूर सहयोग किया 

पूर्व सांसद खैरे ने बताया कि सबसे अधिक काल मंत्री के रुप में पासवान ने केन्द्रीय मंत्रिमंडल में काम किया. उन्होंने 20 वर्ष मुझे सांसद रहते भरपूर सहकार्य किया. रसायन और खाद विभाग के मंत्री रहते रामविलास पासवान ने जिले के किसानों को बड़े पैमाने पर खाद उपलब्ध कराए थे. उनके साथ मैं विविध समितियों के सदस्य रहते समय उन्होंने जिले के किसी भी काम को नहीं टाला. राज्य में मैं जब मंत्री था, तब मेरी मांग पर उन्होंने एक कार्यक्रम में देश के 60 हजार ठेका पध्दति कामगारों को स्थायी करने का वचन दिया तो उस वचन को उन्होंने पूरा किया था. उनके निधन से मैं दुखित हूं. भगवान उनके आत्मा को शांति दे. यह बात खैरे ने कहीं.