Progress of farmers due to new technology, Dr. Mote rendering

    औरंगाबाद. नई-नई टेक्नॉलाजी (Technology) के चलते किसानों को बड़े पैमाने पर मदद मिलने से उनकी प्रगति (Progressing) हो रही है। इसका फायदा कृषि व्यापारियो (Agricultural Traders) को भी उठाकर किसानों को अधिक से अधिक फायदा पहुंचाना चाहिए। यह प्रतिपादन (Rendering) जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी (District Superintendent Agriculture Officer) डॉ. तुकाराम मोटे (Dr. Tukaram Mote) ने किया।

    मैनेज हैदराबाद  (भारत सरकार ) वनामति, नागपुर और आत्मा, औरंगाबाद एवं सीएसएमएसएस कृषि महाविद्यालय के संयुक्त संरक्षण में कृषि विस्तार सेवा प्रमाणपत्र  पाठयक्रम में हिस्सा लिए जिले के कृषि माल वितरकों को प्रमाणपत्र प्रदान किए गए। जहां  इस अवसर पर प्रमुख अतिथि के रुप में कृषि विकास अधिकारी आनंद गंजेवार, आत्मा प्रकल्प की  उपसंचालक वैशाली कुलकर्णी, माफदा के अध्यक्ष जगन्नाथ काले, जिलाध्यक्ष राकेश सोनी, सीएसएमएसएस के विश्वस्त  समीर मुले उपस्थित थे। अपने विचार में डॉ. मोटे ने  कहा कि कृषि विस्तार सेवा प्रमाणपत्र  पाठयक्रम में बीज, खाद, औषधि, औजारे तथा साहित्य आदि के  बारे में तकनीकी और आधुनिक जानकारी व्यापारी बंधुओं को इस कोर्से द्वारा मिलेगी। आप सभी को  खेती की जानकारी है, परंतु इस प्रमाणपत्र पाठयक्रम  द्वारा तज्ञों का मार्गदर्शन, फिल्ड वीजिट, यशोगाथा और अनुभव इसके सहारे कई अधिक जानकारियां मिलेगी। इस आधुनिक तथा तकनीकी जानकारी  का  अपने परिसर के किसानों को अधिक से अधिक फायदा कैसे होगा, इस पर  कृषि माल वितरकों को  विशेष लक्ष्य केंद्रित करने की आवश्यकता है।  

    कृषि विकास अधिकारी  आनंद गंजेवार ने कहा कि किसानों को नई-नई  टेक् नॉलाजी तथा बदलाव की जानकारी लेनी चाहिए  साथ ही अपना उत्पन्न बढ़ाने के लिए आपको जो प्रशिक्षण दिया है, उसका अधिक से अधिक इस्तेमाल करे।  जिन व्यापारियों को कृषि सेवा केंद्र का लाईसन्स अथवा कृषि सेवा केंद्र शुरु करना है, उन्हें यह कोर्स करना अनिवार्य है , इसलिए इस कोर्से का अधिक से अधिक लाभ कृषि व्यापारी ले,  यह अपील आनंद गंजेवार ने की।  कार्यक्रम में संस्था के प्रशासकीय अधिकारी डॉ. श्रीकांत देशमुख, कृषि महाविद्यालय संचालक डॉ.दत्तात्र्य शेलके, उपप्राचार्य डॉ. प्रवीण बैनाडे, समन्वयक प्रा. अतुल भोंडवे, शिवाजी कुलकर्णी,मानव संसाधन अधिकारी अशोक आहेर, पीआरओ संजय पाटिल उपस्थित थे।