‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ अभियान में जनसहभाग महत्वपूर्ण

औरंगाबाद. महाराष्ट्र को कोरोना महामारी से मुक्त करने के लिए ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ यह मुहिम उपयुक्त साबित होगी. इस मुहिम के सफलता के लिए सरकारी यंत्रणा के साथ-साथ जनसहभाग भी जरुरी है. उस दृष्टि से प्रभावी रुप से मुहिम पर अमलीजामा पहनाने के निर्देश जिलाधिकारी सुनील चव्हाण ने यहां दिए.

बैठक में उपस्थिति

जिलाधिकारी कार्यालय में ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ मुहिम पर अमलीजामा पहनाने के लिए जायजा बैठक जिलाधिकारी चव्हाण के अध्यक्षता में ली गई. बैठक में मार्गदर्शन करते हुए कलेक्टर चव्हाण ने यह बात कही. बैठक में जिला परिषद सीईओ डॉ. मंगेश गोंदावले, अपर जिलाधिकारी डॉ. अनंत गव्हाणे, अतिरिक्त सीईओ संतोष कवडे, मनपा के अतिरिक्त आयुक्त ब. भी. नेमाने, उपजिलाधिकारी वर्षाराणी भोसले, शिक्षण अधिकारी एसपी जैसवाल, मनपा की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीता पाडलकर उपस्थित थी.

व्यापक जनजागृति की जाएगी

जिलाधिकारी ने कहा कि ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ मुहिम के दरमियान कोरोना महामारी से बचाव के लिए व्यापक रूप में जनजागृति की जाएगी. नागरिकों को स्वास्थ्य के बारे में सावधान रहने को लेकर मार्गदर्शन और जरुरी सुविधाएं  उपलब्ध करायी जाएंगी. इसमें नागरिकों ने सक्रिय रुप से हिस्सा लेने को प्राथमिकता से भर देकर जनसहभाग से यह मुहिम जिले भर में सफल करनी है. इस मुहिम में 15 सितंबर से 25 अक्टूबर के दरमियान घर-घर पहुंचकर सर्वे करने के लिए 2,306 स्वास्थ्य दलों का गठन किया गया है. इसमें शहर में 379 और ग्रामीण क्षेत्र में 1927 दल शामिल है. एक दल हर दिन 50 घरों का सर्वे कर रहा है.