Aurangabad Municipal Corporation

    औरंगाबाद. शहर में मानसून (Monsoon) ने दस्तक दी है। बीते दो दिन में शहर में हुई दमदार बारिश (Rain) के बाद कई इलाकों में पानी जमा होने की कई शिकायतें औरंगाबाद महानगरपालिका के पास पहुंची थी। बारिश के मौसम में औरंगाबाद महानगरपालिका कार्यक्षेत्र में निर्माण होनेवाले नैसर्गिक आपदा में नागरिकों को आपदा के समय मदद करने के लिए महानगरपालिका के मुख्य कार्यालय के दूरभाष कक्ष में बारिश नियंत्रण कक्ष (Rain Control Room) स्थापित किया गया है। 

    बारिश के दरमियान निर्माण हुई आपदा से राहत पाने शहर के नागरिक औरंगाबाद महानगरपालिका मुख्यालय के लैंडलाइन पर संपर्क करें। यह अपील मनपा प्रशासक आस्तिक कुमार पांडेय ने की है।

    150 से अधिक कर्मचारियों की नियुक्ति की गई

    मनपा प्रशासन ने बारिश के मौसम के लिए स्थापित किए नियंत्रण कक्ष पर नियंत्रण रखने के लिए नियंत्रण कक्ष प्रमुख के रुप में शासकीय अनुदान प्रकल्प के शाखा अभियंता डीजी निकम की नियुक्ति की  है। नियंत्रण कक्ष में तीन शिफ्ट में 150 से अधिक कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है। नियंत्रण कक्ष में कार्य करनेवाले कर्मचारी बारिश के दरमियान आए आपदा को लेकर आनेवाले फोन व शिकायतों का पंजीकरण कर उस बारे में संबंधित प्रभाग अधिकारी व प्रभाग अभियंता को जानकारी देंगे। ताकि आपदा से निर्माण हुए समस्याओं का तत्काल निपटारा किया जा सकें। प्रशासक पांडेय  ने बताया कि यह नियंत्रण कक्ष 30 सितंबर तक कार्यरत रहेगा। आपदा कक्ष में कार्यरत जो कर्मचारी काम में लापरवाही करेंगे, उन पर कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी महानगरपालिका प्रशासक आस्तिक कुमार पांडेय ने दी है। बता दें कि गत वर्ष शहर में जून से लेकर सितंबर एंड तक बारिश का सिलसिला लगातार जारी था। गत वर्ष बारिश के मौसम में कई इलाकों में पानी घूसने व अन्य आपदा की शिकायतें मनपा प्रशासन के पास पहुंची  थी। इस वर्ष मानसून आरंभ होने के एक दिन यानी गत रविवार की शाम शहर में धुआंधार बारिश हुई। उसी तरह सोमवार की शाम भी शहर में धुआंधार बारिश हुई। उधर, मौसम विभाग ने इस वर्ष भी बेहतर बारिश का अनुमान जारी किया है। इस वर्ष भी बेहतर बारिश के अनुमान के बीच  मनपा प्रशासन ने सतर्क होकर बारिश नियंत्रण कक्ष कार्यरत किया है।