गुंठेवारी कानून लागू कर 2015 तक के घरों को नियमित करें

  • कांग्रेस की पालकमंत्री देसाई से मांग

औरंगाबाद. शहर के बाहरी इलाकों में स्थापित हुई बस्तियों में निर्माण किए गए सन 2015 तक  के लाखों घरों को गुंठेवारी कानून के अंतर्गत नियमित कर औरंगाबाद वासियों को राहत देने की मांग कांग्रेसियों ने शहराध्यक्ष हिशाम उस्मानी के नेतृत्व में जिले के पालकमंत्री सुभाष देसाई (Subhash Desai) से मुलाकात कर एक ज्ञापन देकर की।

ज्ञापन में कांग्रेस ने बताया कि शहर में लाखों घर नियमित होने से मनपा का लाखों रुपए का कर डूब रहा है। ऐसे में सरकार ने शहर के बाहरी इलाकों के बस्तियों में सन 2015 तक  निर्माण किए गए सभी घरों को गुंठेवारी कानून के तहत नियमित करने की मांग की।

ज्ञापन में ऐतिहासिक पनचक्की से बीबी का मकबरा मार्ग जो औरंगाबाद गुफाओं (Aurangabad Caves) तक का पर्यटन कॉरिडॉर घोषित कर परिसर का विकास करना, इस सडक के बाजू में सुशिक्षित बेरोजगारों को नए उद्योग के निर्माण के लिए खाम नदी से मकई गेट तक दुकानें उपलब्ध हुई, तो खाम नदी का संरक्षण होगा.

शहर के सपंत्ति धारकों से बकाया करों की राशि वसूलने सख्ती ना करना, वर्तमान में कोरोना महामारी के चलते नागरिकों की आर्थिक स्थिति काफी बिगड़ी है, इसलिए करों की राशि में 50 प्रतिशत छूट देना, महाविद्यालय व स्कूलों से एक साल का कर ना वसूलते हुए उनसे निवासी संपत्ति के अनुसार टैक्स वसूलना,  शहागंज से औरंगपुरा  सब्जि मार्केट का निर्माण तत्काल करना, शहागंज से सरदार पटेल प्रतिमा परिसर विकसित कर वह जनता के लिए खुला करना, उद्यान को सरदार पटेल का नाम देने की मांग की गई है. इसके साथ ही ऐतिहासिक रंगीन दरवाजे परिसर में इंदिरा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा स्थापित करना, टाउन हॉल उड्डान पुल के निचे स्थित सडक की मरम्मत कर नगारिकों के लिए सार्वजनिक मनोरंजन क्षेत्र के रुप में विकसित करना, मनपा को सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए विविध निधि से किए जानेवाले विकास कार्यों पर देखरेख के लिए विशेष अधिकारी नियुक्त करना, शहर के नागरिकों को प्रतिदिन पेयजल आपूर्ति करना आदि मांगें ज्ञापन में की गई। ज्ञापन देते समय प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष प्रकाश मुगदिया, पूर्व मंत्री अनिल पटेल, एड. एकबाल सिंह गिल, एम.ए .अजहर, एड. सुभाष देवकर, डॉ. अरुण सिरसाठ उपस्थित थे।