प्लाजमा डोनेट करने वाले कांस्टेबल घुगे का एसपी ने किया सत्कार

औरंगाबाद. कोरोना महामारी के जारी संक्रमण के बीच महाराष्ट्र पुलिस दल  स्थानीय स्तर पर नागरिकों की  मदद के लिए 24 घंटे अपना कर्तव्य निभा रहा है. ऐसे में परभणी जिले के जिंतुर थाना में कार्यरत पुलिस नाईक कोरोना संक्रमित होने से उनकी हालत गंभीर हुई थी. उसे प्लाजमा की जरुरत थी.  महामार्ग पुलिस केन्द्र खुलदाबाद में कार्यरत कांस्टेबल किशोर सुदाम घुगे ने दत्ताजी भाले रक्तपेढी के माध्यम से पुलिस नाईक के लिए अपना प्लाजमा दान किया. इस कार्य पर  एसपी मोक्षदा पाटिल ने कांस्टेबल किशोर घुगे की प्रशंसा कर गुरुवार को परिवार के साथ सम्मानपत्र देकर सत्कार किया.

एसपी मोक्षदा पाटिल ने बताया कि जिंतुर थाना में कार्यरत पुलिस नाईक कोरोना संक्रमित होने पर उन्हें इलाज के लिए शहर के कमलनयज बजाज अस्पताल में भरती कराया गया था. इलाज के दौरान पुलिस नाईक की हालत काफी गंभिर  थी. उन्हें प्लाजमा की जरुरत थी. यह बात सोशल मीडिया के माध्यम से महामार्ग पुलिस केन्द्र के खुलदाबाद में कार्यरत कांस्टेबल किशोर घुगे को पता चलने पर उन्होंने प्लाजमा दान करने का निर्णय लिया. एसपी मोक्षदा पाटिल ने बताया कि कांस्टेबल घुगे इससे पूर्व कोरोना संक्रमित हुए थे.

इलाज के बाद उनकी हालत बेहतर होकर उनकी रिपोर्ट निगेटिव आयी थी. जिसके चलते वे प्लाजमा दान के लिए उपयुक्त थे. पुलिस कांस्टेबल किशोर घुगे ने दत्ताजी भाले रक्त पेढी के माध्यम से 450 एमएल प्लाजमा दान किया. जिससे जिंतुर थाना में कार्यरत पुलिस नाईक की हालत खतरे से बाहर हुई है. कांस्टेबल घुगे द्वारा किए कार्य पर एसपी मोक्षदा पाटिल ने खुशी जाहिर की. गुरुवार को किशोर घुगे को परिवार के साथ एसपी कार्यालय बुलाकर सत्कार किया. इस अवसर पर महामार्ग के पीआई नंदिनी चानपुरकर, एपीआई नामदेव चव्हाण उपस्थित थे. अंत में एसपी मोक्षदा पाटिल ने बताया कि कोरोना  संक्रमण से मुक्त हुआ मरीज 28 दिनों के बाद प्लाजमा दान कर सकता है.