Two thousand saplings planted in Kham river

    औरंगाबाद. शहर की ऐतिहासिक खाम नदी (Kham River) में विश्व पर्यावरण दिन के उपलक्ष्य में शनिवार को दो हजार पौधे लगाए गए है। यह पौधे आनेवाले कुछ समय में शहरवासियों को शुध्द हवा देंगे। यह प्रतिपादन मनपा कमिश्नर आस्तिक कुमार पांडेय (Astik Kumar Pandey) ने यहां किया।

    विश्व पर्यावरण दिन के उपलक्ष्य में खाम नदी परिसर में 2 हजार पौधे लगाकर बड़े पैमाने पर पौधारोपण किया गया। इस अवसर पर अपने विचार में पांडेय ने यह बात कहीं। उन्होंने कहा कि खाम नदी पुर्नरुज्जीवन विकास प्रकल्प के अंतर्गत महाराष्ट्र सरकार के ‘माझी वसुंधरा’ अभियान के अंतर्गत सफाई और सौंदर्यीकरण का काम मनपा ने औरंगाबाद स्मार्ट सिटी, वैराक कंपनी, छावनी परिषद, सीआईआई, इको सत्व, स्वयंसेवी संस्था और नागरिकों के सहकार्य से हाथ में लिया है। इसी दरमियान विश्व पर्यावरण दिन पर खाम नदी परिसर में दो हजार पौधे लगाए गए। 

    नदी के सुंदरता में होगा इजाफा 

    पांडेय ने कहा कि खाम नदी में बड़े पैमाने पर पौधारोपण करने से  नदी के सुंदरता में इजाफा होगा, बल्कि शहरवासियों को शुध्द हवा मिलेगी। आज हम सब कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहे है, इस महामारी के संकट में ऑक्सीजन कितना जरुरी इसका सबको एहसास हो चुका है। यह पौधे कुछ समय बाद शहरवासियों को ऑक्सीजन देंगे। उन्होंने शहर के नागरिकों से अपील की कि वे अपने परिसर में पौधे लगाकर उनकी देखरेख करें। ताकि, शहर के हर क्षेत्र के नागरिकों को बड़ी आसानी से ऑक्सीजन मिल सकें। उधर, छोटे बच्चों को पौधारोपण का महत्व समझे, इसलिए अमरेन्द्र भोंबे नामक बालक  के हाथ से खाम नदी में वृक्षारोपण किया गया। इस अवसर पर मनपा के घनकचरा व्यवस्थापन प्रमुख नंदकिशोर भोंबे, शहर अभियंता सखाराम पानझडे, जिला खनिकर्म अधिकारी अतुल दौड, उद्यान अधीक्षक विजय पाटिल, कार्यकारी अभियंता बीडी फड, केएम फलक, मनपा के शिक्षणाधिकारी रामनाथ थोरे, स्मार्ट सिटी के आदित्य तिवारी, इको सत्व की नताशा झरिन, मनपा के वरिष्ठ सफाई निरीक्षक असदुल्ला खान, उद्यान अभियंता तौकिर अहमद, पीआरओ संजीव सोनार, मनपा कर्मचारी व पर्यावरण प्रेमी उपस्थित थे।