Aastik Kumar Pandey

– मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय ने जताया विश्वास

औरंगाबाद. शहर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए  मनपा प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है. औरंगाबाद वासियों के सहयोग से हम जल्द ही कोरोना को शहर से मात देंगे. यह विश्वास मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए जताया.

उन्होंने बताया कि शहर में कोरोना के बढ़ते प्रभाव के बीच मनपा की ओर से ट्रिपल सी, कोविड सेंटर तथा इन्सिटिटयूशन क्वारंटाईन के तहत 6 हजार बेड की व्यवस्था की गई है. मानो एक दिन में 1 हजार पेशंट भी इस महामारी से संक्रमित पाए गए तो, प्रशासन द्वारा ट्रिपल सी तथा इन्सिटिटयूशन क्वारंटाईन के माध्यम से मरीजों पर इलाज के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध कराने में मनपा प्रशासन सक्षम है.

अगले सप्ताह मेल्ट्रान इमारत का अस्पताल मरीजों की सेवा में

मनपा प्रशासक पांडेय ने बताया कि एमआईडीसी द्वारा चिकलथाना में स्थित मेल्ट्रान इमारत में बनाए गए कोविड अस्पताल अगले सप्ताह मरीजों की सेवा में होगा. बता दे कि बीते सप्ताह इस अस्पताल का उदघाटन राज्य के मुखिया उध्दव ठाकरे के हाथों ऑनलाइन किया गया था. अस्पताल में कोविड-19 को लेकर सभी सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी है. यह अस्पताल शुरु होने पर शहर के कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए बड़े पैमाने पर राहत मिलेंगी.

कोरोना से न घबराए औरंगाबाद वासी

मनपा प्रशासक पांडेय ने शहरवासियों से अपील की कि वे कोरोना महामारी से न घबराए. बल्कि इससे पूरी तरह  सावधान रहने की जरुरत है. उन्होंने नागरिकों से  घर से बाहर निकलने पर मास्क व सैनिटायर का इस्तेमाल पर अधिक तरजीह देकर सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करने पर बल दिया. उन्होंने शहर के हर नागरिक से शरीर के तापमान की जांच के लिए स्मॉल थर्मामीटर तथा पल्स ऑक्सिमीटर खरीदने की  अपील की. इन दोनों उपकरणों का इस्तेमाल कर शहर का हर नागरिक  अपने स्वास्थ्य की जानकारी मनपा द्वारा शुरु किए गए एमएचएमएच एप पर पंजीकृत करें. ताकि, औरंगाबाद मनपा प्रशासन को शहर के हर नागरिक के स्वास्थ्य की जानकारी आसानी से मिल पाएगी.

निजी अस्पताल के खिलाफ आ रही शिकायतें

अंत में पांडेय ने बताया कि शहर के निजी अस्पतालों द्वारा कोरोना संक्रमित मरीजों को भरती करने के लिए की जा रही मनमानी को लेकर हमारे पास शिकायतें आ रही है. इन्हीं शिकायतों पर जिलाधिकारी उदय चौधरी ने अपर जिलाधिकारी को इस मामले की जांच के लिए नोडल अधिकारी के रुप में नियुक्त किया है. उन्होंने साफ कहा कि जो निजी अस्पताल कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती करने में अनदेखी करेंगे, उन पर कार्रवाई होगी. प्रशासन द्वारा हर निजी अस्पताल को कोरोना मरीजों के इलाज के लिए बेड आरक्षित रखने के आदेश दिए गए है. बल्कि, हर अस्पताल में कितने बेड खाली है, इसकी जानकारी अस्पताल के बाहर लगाने के सख्त आदेश दिए गए है. इस आदेश पर निजी अस्पताल धारक अमलीजामा पहना रहे है.