कोरोना महामारी को रोकने महिला अधिकारी मोर्चे पर

  • 6 महिला डिप्टी कलेक्टर मैदान में
  •  लॉकडाउन में जनता की सेवा में जूटी  

औरंगाबाद. शहर में लॉकडाउन पर प्रभावी रूप से अमल करने के लिए प्रशासन की ओर से निरीक्षकों की नियुक्ति की गई है. इन निरीक्षकों में राजस्व विभाग की 6 महिला डिप्टी कलेक्टर शामिल हैं. वर्तमान में कोरोना महामारी के इस संकट में महिला अधिकारी उत्साह के साथ प्रत्यक्ष मैदान में उतरकर अपनी जिम्मेदारी व कर्तव्य बखूबी निभा रही हैं.

जिले को कोरोना मुक्त करने के लिए प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग सहित कई अन्य विभागों के अधिकारी व कर्मचारी दिन-रात अपने तौर पर प्रयास कर रहे है. इन सभी के साथ डिप्टी कलेक्टर रिता मैत्रेवार, सरिता सुत्रावे, अंजली धानोरकर संगीता सानप, वर्षाराणी  भोसले व संगीता चव्हाण यह सभी 6 डिप्टी कलेक्टर भी बढ़ चढ़कर हर काम में हिस्सा लेकर औरंगाबाद शहर के विविध परिसर में घूम-घूमकर कोरोना प्रतिबंधात्मक उपाय योजना पर अमलीजामा पहनाने के लिए विविध प्रकार की जिम्मेदारियां बखूबी निभा रही हैं. खासकर, लॉकडाउन का पालन व्यवस्थित रुप से हो रहा है, या नहीं इसका जायजा भी ले रही हैं.

व्यापक रूप से कर रही काम

राजस्व विभाग की 6 महिला डिप्टी कलेक्टर जनता को लॉकडाउन का सफलता पूर्वक पालन करने की अपील करना, जनजागृति करना, उनकी समस्या, अड़चणों को समझना, उन्हें हल करने के लिए प्रयास करना आदि विविध स्तरों पर यह सभी महिला अधिकारी व्यापक रूप से काम कर रही हैं. साथ ही कंटेनमेंट जोन में जीवनावश्यक वस्तुओं की जरुरत हो तो उनकी आपूर्ति के बारे में संबंधितों को सूचित करना, लोग बिना वजह घर के बाहर तो नहीं निकल रहे हैं, साथ ही लॉकडाउन के चलते लोगों को जरूरी सुविधाएं उपलब्ध होने में दिक्कतें तो नहीं आ रही हैं, इसके लिए कंटनमेंट जोन को प्रत्यक्ष भेंट देकर नागरिकों को घर में रहने की सलाह देने देने का काम भी महिला अधिकारी बखूबी निभा रही है.

क्वारंटाइन सेंटर में निर्माण समस्याओं को हल करने को प्राथमिकता

मनपा द्वारा शहर के अलग-अलग इलाकों में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए क्वारंटाईन सेंटर बनाए गए है. उन सेंटरों में भरती मरीजों को बेहतर सुविधाएं मिल रही हैं, या नहीं इसका जायजा लेना. वहां निर्माण समस्याओं को तत्काल हल करने के संबंधितों को निर्देश देना, कई स्थानों पर महिला डिप्टी कलेक्टर खुद वाहनों को रोककर उनकी जांच करना, चौराहों पर नियुक्त अधिकारी व कर्मचारी व्यवस्थित काम कर रहे हैं, या नहीं इसका जायजा लेना, उनके समक्ष आ रही अड़चणों का तत्काल निराकरण करना आदि काम को महिला डिप्टी कलेक्टर  प्राथमिकता दे रहे है.

कोविड केयर सेंटर में महिला मरीजों को दे रही धैर्य

इन दिनों पुरुषों के साथ-साथ बड़ी संख्या में महिला भी कोरोना पॉजिटिव पाई जा रही हैं. जिन कोविड केयर सेंटर में महिला मरीज भर्ती है, वहां का दौरा कर उनकी समस्याएं हल करना. महिला मरीजों से हालचल पूछकर उन्हें जल्द कोरोना से मुक्त होने के लिए प्रोत्साहन देने का काम भी महिला अधिकारी कर रही है. महिला अधिकारियों द्वारा किए जा रहे इन प्रयासों से अन्य अधिकारियों को भी महामारी के इस संकट में खुद होकर काम करने की प्रेरणा मिल रही है.